Rajasthan में बिजली की मांग और आपूर्ति में अंतर हुआ कम, शहरी क्षेत्रों में मेंटेनेंस ने नाम पर अब भी पावर कट
X

Rajasthan में बिजली की मांग और आपूर्ति में अंतर हुआ कम, शहरी क्षेत्रों में मेंटेनेंस ने नाम पर अब भी पावर कट

ओपन एक्सेस से बिजली खरीद (Power Purchase) के भाव भी अब घटे है. 

Rajasthan में बिजली की मांग और आपूर्ति में अंतर हुआ कम, शहरी क्षेत्रों में मेंटेनेंस ने नाम पर अब भी पावर कट

Jaipur: राजस्थान में बिजली की मांग और आपूर्ति में अंतर कम हुआ है. राजस्थान में मौसम बदलने से विद्युत मांग (Power Demand) में 2.5 करोड़ यूनिट प्रतिदिन की कमी दर्ज की गई है. वर्तमान में मांग 23.50 करोड़ यूनिट प्रतिदिन तक पहुंची है. हालांकि अभी भी मांग और आपूर्ति में तीन करोड़ यूनिट प्रतिदिन का अंतर है. एसीएस ऊर्जा डॉ सुबोध अग्रवाल (Dr. Subodh Agarwal) का कहना है कि कोयला सप्लाई (Coal Supply) में सुधार से उत्पादन में भी तेज़ी आ रही है. ओपन एक्सेस से बिजली खरीद (Power Purchase) के भाव भी अब घटे है. 

यह भी पढ़ें- RAS से आईएएस में प्रमोशन के लिए 29 अक्टूबर को होगी बोर्ड बैठक

ओपन एक्सेस से 5 रुपये प्रति यूनिट तक बिजली (electricity) मिल रही है. पांच इकाइयों में करीब 1800 मेगावाट विद्युत उत्पादन (Power Generation) शुरु किया गया है. सूरतगढ (Suratgarh) में 250 मेगावाट विद्युत उत्पादन क्षमता की इकाई में उत्पादन शुरु हो गया हैं, कालीसिंध तापीय (Kalisindh Thermal) में 600 मेगावाट, कोटा तापीय विद्युत गृह (Kota Thermal Power Station) में 195 और सूरतगढ़  विद्युत गृह (Suratgarh Power House) में यूनिट 6 में 660 मेगावाट का उत्पादन आरंभ हो गया है.

यह भी पढ़ें- कल से समर्थन मूल्य पर ऑनलाइन पंजीयन करवा सकेंगे किसान, जानें पूरी प्रक्रिया

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने प्रदेश में बिजली सप्लाई (Power supply) की समीक्षा बैठक लेकर त्यौहारी सीजन में विद्युत कटौती (Power cut) नहीं करने के निर्देश दिए हैं. इसके लिए वैकल्पिक व्यवस्थाओं पर काम करने के लिए ठोस प्लानिंग बनाने के भी निर्देश जारी किए गए हैं. विंड और सोलर एनर्जी (Wind and solar energy) के नए करार से भविष्य में बिजली सप्लाई बढ़ने की संभावना है.

Trending news