CM से श्रमिक संगठनों के प्रतिनिधियों की चर्चा, विभिन्न मांगों को लेकर हुई मुलाकात
X

CM से श्रमिक संगठनों के प्रतिनिधियों की चर्चा, विभिन्न मांगों को लेकर हुई मुलाकात

गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार श्रमिकों के कल्याण के लिए उनकी वाजिब मांगों के संबंध में सकारात्मक रूख के साथ चरणबद्ध रूप से निर्णय लेगी.

CM से श्रमिक संगठनों के प्रतिनिधियों की चर्चा, विभिन्न मांगों को लेकर हुई मुलाकात

Jaipur: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) से बुधवार शाम को मुख्यमंत्री निवास पर विभिन्न मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय श्रमिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने मुलाकात की और अपनी विभिन्न मांगों के संबंध में मुख्यमंत्री का ध्यान आकृष्ट किया. 

प्रतिनिधिमण्डल में इन्टक के जगदीश राज श्रीमाली, घासीलाल, एटक रोडवेज के एमएल यादव, कुनाल रावत, सीटू के रामपाल सैनी, भंवरसिंह राणा, एचएमएस के मुकेश माथुर सीपीआई के डीके छंगाणी आदि पदाधिकारी मौजूद थे.

यह भी पढे़ं- शहर की तर्ज पर सुंदर बनाए जाएंगे गांव, जवानपुरा पंचायत से सीखेगा पूरा Rajasthan

 

श्रमिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार में लाए गए श्रम कानूनों में परिवर्तन पर पुनर्विचार किया जाए. साथ ही भारत सरकार द्वारा लागू होने वाले लेबर कोड को लेकर सभी श्रमिक संगठनों के साथ चर्चा की जाए न्यूनतम मजदूरी के निर्धारण में सुधार हो. श्रमिकों के कल्याण के लिए श्रमिक कल्याण केंद्र बनाने के साथ ही मजदूर भवन बनाया जाए. प्रतिनिधियों ने सेवानिवृत्त रोडवेज कर्मियों की ग्रेच्युटी का भुगतान करने के निर्णय पर मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया. उन्होंने कहा कि सीएम गहलोत के इस निर्णय से सेवानिवृत्तकार्मिकों के परिवारों को सम्बल मिला है. 

यह भी पढे़ं- इसी रबी सीजन से ज्यादा किसानों को मिल सकेगा ऋण, करवा सकते हैं ऑनलाइन पंजीयन

 

नियमित वेतन भुगतान के लिए ग्रांट व्यवस्था को सुदृढ़ करने, दीपावली पर एक्सग्रेशिया देने, रोडवेज बसों की संख्या में वृद्धि करने, रिक्त पदों को भरने, सेस फण्ड सहित सेवानिवृत्ति के बकाया अन्य परिलाभ जल्द दिलाए जाने का आग्रह किया. साथ ही, बस टर्मिनल प्राधिकरणएवं लोक परिवहन सेवा आदि मुद्दों पर नीतिगत निर्णय लिए जाने का भी आग्रह किया.

श्रमिकों के हितों को लेकर गंभीर है राज्य सरकार 
मुख्यमंत्री ने सकारात्मक माहौल में हुई चर्चा के दौरान कहा कि राज्य सरकार श्रमिकों के हितों को लेकर गंभीर है और इस दिशा में लगातार संवेदनशील सोच के साथ निर्णय लिए हैं. उन्होंने कोरोना की पहली एवं दूसरी लहर के समय मोक्ष कलश बसों के सुचारू संचालन तथा संकट की घड़ी में प्रवासियों को उनके गन्तव्य तक पहुंचाने में निभाई गई मानवीय भूमिका के लिए रोडवेज कार्मिकों की सराहना की. उन्होंने कहा कि रीट जैसी प्रतियोगी परीक्षा के दौरान अभ्यर्थियों को सुगमतापूर्वक परीक्षा केन्द्रों तक पहुंचाने में भी रोडवेज ने महत्वपूर्ण योगदान दिया है. उन्होंने कहा कि आगामी प्रतियोगी परीक्षाओं के सफल आयोजन में भी रोडवेजकर्मी अपने दायित्व का निर्वहन करें.

श्रमिकों के कल्याण के लिए होंगे ये काम
गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार श्रमिकों के कल्याण के लिए उनकी वाजिब मांगों के संबंध में सकारात्मक रूख के साथ चरणबद्ध रूप से निर्णय लेगी. रोडवेज और जेसीटीसीएल से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर भी जल्द बैठक कर निर्णय लिए जाएंगे. इस अवसर पर प्रमुख सचिव परिवहन  अभय कुमार, शासन सचिव श्रम भानुप्रकाश एटरू सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे.

 

Trending news