Rajasthan: सहकारी बैंकों में गबन का खुला खेल, सरकार ने जांच के लिए गठित की 10 टीमें

सहकारी बैंकों के खिलाफ कई गंभीर शिकायतें मिली हैंं, जिसके बाद गहलोत सरकार सख्त हो गई है. सरकार ने इन बैंकों के खिलाफ जांच कमेटी गठित कर जांच शुरु कर दी है.

Rajasthan: सहकारी बैंकों में गबन का खुला खेल, सरकार ने जांच के लिए गठित की 10 टीमें
फाइल फोटो

Jaipur: कॉपरेटिव बैंकों (Cooperative bank) में गबन (Embezzlement in bank) का खुला खेल चल रहा है, जिसके बाद कई शिकायतें दर्ज की गई है. शिकायतों के बाद राज्य सरकार सख्त हो गई है. सरकार ने इन बैंकों पर शिकंजा कसने के लिए गहन जांच शुरू कर दी है.

यह भी पढ़ेंः टैक्स चोरों पर CGST कस रही शिकंजा, देशभर में 8,000 लोगों पर हुई कार्रवाई

राजस्थान के जिन बैंकों से किसानों को लोन (Bank Loan) मिलता है, उन्हीं बैंकों में जमकर गड़बड़ी हो रही है. प्रदेश के कई सहकारी बैंकों के खिलाफ कई गंभीर शिकायतें मिली हैंं, जिसके बाद गहलोत सरकार सख्त हो गई है. सरकार ने इन बैंकों के खिलाफ जांच कमेटी गठित कर जांच शुरु कर दी है. सहकारिता विभाग अगस्त-सितम्बर महीने में 29 केन्द्रीय सहकारी बैंकों के निरीक्षण के लिए अपेक्स बैंक (Apex Bank) के अधिकारियों के 10 संयुक्त निरीक्षण दल (inspection team) गठित किये गये हैं. निरीक्षण दल 29 केन्द्रीय सहकारी बैंकों (central co-operative banks) का निरीक्षण कर रिपोर्ट रजिस्ट्रार कार्यालय को प्रस्तुत करेंगे. इससे पहले दुर्घटना बीमा और जीवन बीमा(Accident Insurance and Life Insurance) में लापरवाही पर सरकार ने कार्रवाई के आदेश दिए थे. सहकारिता मंत्री (Cooperation Minister) उदयलाल आंजना (Udailal anjana) का कहना है कि जहां भी अनियमितता होगी, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

यह भी पढ़ें- Rajasthan के सांसदों के साथ लोकसभा अध्यक्ष Birla की बैठक खत्म, रेलवे का होगा कायाकल्प

10 टीमों के लिए 30 अधिकारी नियुक्त
बैंकों और ग्राम सेवा सहकारी समितियों (Village Service Co-operative Societies) की कार्यप्रणाली को बेहतर बनाया जा सके. किसानों से जुड़े निर्णयों की क्रियान्विति बेहतर ढंग से हो सके, इसके लिए यह अभियान चलाया जा रहा है. 10 टीमे में विभाग और बैंक के 30 अधिकारियों को नियुक्त किया गया है. प्रत्येक 3 सदस्य निरीक्षण दल, एक केन्द्रीय सहकारी बैंक में 5 दिन निरीक्षण करेगा. बैंक निरीक्षण के साथ एक ग्राम सेवा सहकारी समिति और बैंक की एक शाखा का भी निरीक्षण करेंगे.

खंगाले जाएंगे ये दस्तावेज 
जांच के  वितरित ऋण राशि और ब्याज अनुदान पेटे राशि का पुनर्भरण, ऑडिट की स्थिति, खातों का मिलान, अंतर संबंधी विवरण, बीमा की स्थिति, विभिन्न मदों में व्यय,विभाग और बैंक से जाने वाले प्रपत्र और दिशा-निर्देशों की पालना की स्थिति को बारीकी से देखे जाएंगे. निरीक्षण दल केन्द्रीय सहकारी बैंकों की हिस्सा पूंजी, कोष प्रबंधन, विनियोग, अमानतें, बैंकिंग और सोसायटी अधिनियम की पालना, उधार, ऋण अग्रिम, बजट घोषणाओं की क्रियान्विति की स्थिति, मांग, वसूली, बकाया की स्थिति, एनपीए, सीआरएआर, लेखांकन प्रणाली, कम्प्यूटराइजेशन की स्थिति, ऋण वितरण की स्थिति के दस्तावेज खंगाले जाएंगे. जांच के बाद यदि जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ विभाग कड़ा कदम उठाया जाएगा.

आशीष चौहान,जी मीडिया,जयपुर