1 मई से Rajasthan के 9 शहरों में 35-44 आयुवर्ग के लोगों को ही लगेगी Vaccine

राजस्थान में एक मई से 18 से 45 आयु वर्ग के लोगों के लिए वैक्सीनेशन प्रारंभ नहीं किया जा सकेगा. 

1 मई से Rajasthan के 9 शहरों में 35-44 आयुवर्ग के लोगों को ही लगेगी Vaccine
प्रतीकात्मक तस्वीर

Jaipur : राजस्थान में एक मई से 18 से 45 आयु वर्ग के लोगों के लिए वैक्सीनेशन प्रारंभ नहीं किया जा सकेगा. सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया से वैक्सीन (Corona Vaccine) की सप्लाई होनी है, लेकिन कंपनी ने राजस्थान (Rajasthan News) को केवल तीन लाख संभावित डोज देने की हामी भरी है. ऐसे में पूरे प्रदेश में 18-45 आयुवर्ग के लिए लोगों के लिए वैक्सीनेशन प्रोग्राम प्रारंभ नहीं किया जा सकता. 

यह भी पढ़ें- Rajasthan में दस दिन में डेढ़ गुना से अधिक होगी Oxygen की मांग: Dr. Raghu Sharma

राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा (Dr Raghu Sharma) ने कहा कि जो हमें संभावित तीन लाख वैक्सीन की डोज मिलने जा रही हैं, उनका उपयोग प्रदेश के उन शहरों में सर्वप्रथम किया जाएगा, जहां संक्रमण अधिक है. इन शहरों में भी केवल 35-44 आयुवर्ग के लोगों का ही वैक्सीनेशन होगा. इसके बाद जब वैक्सीन की सप्लाई नियमित होगी तब तय आयुवर्ग के लोगों का वैक्सीनेशन होगा. 

7 करोड़ डोज की आवश्यकता
राजस्थान में 18-45 वर्ष आयुवर्ग के करीब 3.25 करोड़ लोग है. इसलिए प्रदेश को 7 करोड़ वैक्सीन डोज की आवश्यकता है.वैक्सीन नहीं मिलने के कारण फिलहाल सभी का वैकसीनेशन नहीं किया जा सकता. केंद्र सरकार (Central Government) से वैक्सीन मिलने के साथ ही राजस्थान में वैक्सीनेशन का कार्य प्रारंभ कर दिया जाएगा.

7 लाख इंजेक्शन प्रतिदिन लगाने का तंत्र विकसित
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि वर्तमान में 7 लाख इंजेक्शन प्रतिदिन लगाने का तंत्र विकसित किया जा चुका है, जिसे और भी बढ़ाया जा सकता है. उन्होंने कहा कि विभाग ने 5 लाख 80 हजार वैक्सीन एक दिन में लगाए थे. उन्होंने कहा कि 45 से अधिक उम्र के लोग करीब 2 करोड़ 9 लाख हैं. इनमें से भी कई लोगों को दूसरा डोज लगाना बाकी है. 

15 हजार रेमडेसिविर प्रतिदिन की जरुरत
कोरोना संक्रमितों की तेजी से बढ़ती संख्या के कारण प्रदेश को एक मई से 15 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन प्रतिदिन चाहिए. जबकि केन्द्र सरकार की ओर से जो आवंटन किया जा रहा है वह बेहद कम है. उन्होंने कहा अप्रैल माह में राजस्थान को 67 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन का आवंटन किया गया था, लेकिन प्रदेश को केवल 40 हजार इंजेक्शन की उपलब्ध हो सके.

बैड्स की कमी नहीं
चिकित्सा मंत्री ने कहा कि प्रदेश में अस्पतालों या कोविड केयर सेंटर में पर्याप्त संख्या में बैड्स उपलब्ध हैं, लेकिन आक्सीजन और रेमडेसिविर का आवंटन केन्द्र सरकार के हाथ में होने के कारण चुनौती का सामना करना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि आक्सीजन की कमी और रेमडेसिविर के कम आवंटन सबंधी विषयों पर ही प्रदेश के मंत्री समूह ने हाल ही में दिल्ली जाकर सबंधित केन्द्रीय मंत्रियों को अवगत कराया था.

यह भी पढ़ें- Covid-19: Rajasthan में बढ़ी Oxygen की खपत, 31 हजार सिलेंडर हर रोज की जरूरत