रीट परीक्षा के दिन भीड़ को देखते हुए व्यापार मंडलों ने की स्वैच्छिक बंद की घोषणा

जिला कलेक्टर ने शहर के आम नागरिकों से भी अपील की है कि वे 26 सितम्बर को रीट परीक्षा के दौरान अतिआवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकले. 

रीट परीक्षा के दिन भीड़ को देखते हुए व्यापार मंडलों ने की स्वैच्छिक बंद की घोषणा
26 सितम्बर को जयपुर में स्वैच्छिक बंद की घोषणा.

Jaipur: रीट परीक्षा (REET Exam 2021) के सफल और सुचारू संचालन के लिए जयपुर जिला प्रशासन मिशन मोड पर कार्य कर रहा है. कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा (Antar Singh Nehra) की पहल पर व्यापार संघों के पदाधिकारियों ने रीट परीक्षा को देखते हुये 26 सितम्बर को जयपुर में स्वैच्छिक बंद की घोषणा की है.

इससे रीट परीक्षार्थियों को किसी भी तरीके की समस्या का सामना ना करना पड़े और जयपुर शहर में यातायात- कानून व्यवस्था भी ना बिगड़े. खाने-पीने और दवाइयों की दुकानों सहित आवश्यक सेवाओं को इस बंद से मुक्त रखा गया है. जिला कलेक्टर ने शहर के आम नागरिकों से भी अपील की है कि वे 26 सितम्बर को रीट परीक्षा के दौरान अतिआवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकले. 

जयपुर में 26 सितम्बर को होने वाले रीट भर्ती परीक्षा में व्यवस्थाएं बनाए रखने और भीड़ को कंट्रोल करने के लिए व्यापारियों संग जयपुर कलेक्टर अंतर सिंह नेहरा ने बैठक की. कलेक्टर ने बैठक में व्यापारियों से 26 सितम्बर को शहर के तमाम बाजारों को बंद रखने और जयपुर में परीक्षा देने आ रहे अभ्यर्थियों के लिए मदद का आह्वान किया. इस पर व्यापारियों ने कलेक्टर को स्वैच्छिक बाजार बंद रखने का आश्वासन दिया. हालांकि इस दौरान व्यापारियों ने प्रशासन से जयपुर शहर में शराब की दुकानों को भी बंद रखवाने की मांग रखी.

यह भी पढ़ेंः Rajasthan SI 2020: भ्रष्टाचार और नकल के मामलों में छात्रों ने तेज की भर्ती परीक्षा रद्द करने की मांग

जयपुर व्यापार महासंघ, राजापार्क व्यापार मंडल, वैशाली नगर और चारदीवारी के तमाम बाजारों के व्यापार मंडल के पदाधिकारी इस बैठक में पहुंचे. कलेक्टर ने व्यापारियों से सुझाव मांगे कि कैसे 26 सितम्बर को परीक्षा के दौरान व्यवस्थाएं बनाई जा सकती है और इस दिन यहां आने वाले अभ्यर्थियों के लिए क्या मदद कर सकते हो.  इस पर सभी पदाधिकारियों ने जयपुर में स्वैच्छिक बाजार बंद रखने का प्रस्ताव रखा. बैठक में मौजूद कुछ व्यापारियों ने कलेक्टर से मांग रखी कि इस दिन शहर की सभी शराब की दुकानें भी बंद रखवाई जाए. 

व्यापारियों ने कहा कि शराब की दुकानें बंद रखवाने के पीछे कारण शांतिपूर्ण माहौल को बनाए रखना है. व्यापारियों का तर्क था कि प्रदेश के दूर-दराज क्षेत्रों से बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स आएंगे और उनमें से कुछ परीक्षा देने के बाद अगर शराब का सेवन करके यात्रा करेंगे और धर्मशालाओं में ठहरेंगे तो वहां माहौल खराब हो सकता है. अत: मेडिकल, परचूनी, सब्जियां और अन्य जरूरत की दुकानों को छोड़कर शेष सभी दुकानें बंद रहनी चाहिए तभी व्यवस्था अच्छी रहेगी.

बता दें कि 26 सितम्बर के दिन जयपुर में करीब 2.50 लाख से ज्यादा स्टूडेंट्स एग्जाम देंगे. इसमें से करीब 1 लाख 37 हजार से ज्यादा स्टूडेंट्स दूसरे जिलों से जयपुर पहुंचेंगे. इन स्टूडेंट्स के साथ उनके कुछ परिजनों के भी आने की संभावना है. इसे देखते हुए जयपुर जिला प्रशासन ने एग्जाम की तैयारियों को लेकर कई व्यवस्थाएं की है. 

व्यापार मंडलों ने की व्यापारियों से अपील
जयपुर व्यापार महासंघ के अध्यक्ष सुभाष गोयल (Subhash Goyal) ने बताया कि हमने जयपुर के सभी व्यापार मंडल के पदाधिकारियों को मैसेज कर दिया है कि वह 26 सितम्बर के दिन जरूरी सेवाओं से जुड़ी दुकानों को छोड़कर शेष बाजार बंद रखने की अपील कर दी है. उन्होंने बताया कि हमने बैठक में एक सुझाव शहर के सुलभ शौचालयों को लेकर दिया है. शहर में कई सुलभ शौचालय बंद पड़े है और कई टूट रहे है. उन शौचालयों को खुलवाने, रिपेयर करवाने और उनकी अच्छे से साफ-सफाई करवाने की मांग रखी है ताकि एग्जाम देने आने वाले बच्चों और उनके साथ आने वाले परिजनों को टॉयलेट या शौच के लिए परेशान न होना पड़े. 

शहर में 24 कलस्टर बनाए, 6 हजार पुलिसकर्मी तैनात
जयपुर शहर में 26 सितम्बर को 6 हजार पुलिसकर्मी यातायात व्यवस्था को संभालेंगे. रीट एग्जाम की व्यवस्था बनाए रखने के लिए जयपुर शहर को 24 कलस्टर में बना दिया. इन कलस्टर में जयपुर नगर-निगम और जयपुर जेडीए के जोन उपायुक्तों और उनके संग एसीपी की ड्यूटी लगाई है. ये अधिकारी अपने-अपने क्षेत्र में इंदिरा रसोई में खाने की व्यवस्था, मोबाइल टॉयलेट, समाज सेवियों की तरफ से स्टूडेंट्स के लिए की जाने वाली चाय-पानी की व्यवस्था के लिए उचित जगह उपलब्ध करवाने, बस स्टेण्ड से परीक्षा सेंटर्स तक आने-जाने के लिए चलने वाले लोकल पब्लिक ट्रांसपोर्ट की मॉनिटरिंग करने समेत अन्य व्यवस्थाएं करेंगे. इसके अलावा अभ्यर्थियों के लिए ठहरने की व्यवस्था शहर में कहां-कहां होगी. इसकी सूची तैयार करके इनके कॉन्टेक्ट नंबर सार्वजनिक करेंगे.

यह भी पढ़ेंः REET मामले में Jaipur जिला प्रशासन को राहत, 80 हजार अभ्यर्थी हुए कम

शहर में 5 अस्थाई रीट बस स्टैंड स्थापित
जयपुर शहर को 24 कलस्टर में विभाजित कर 5 अस्थाई बस स्टैंड सूरजपोल मण्डी के बाहर ट्रॉसपोर्ट नगर दिल्ली रोड, रोडवेज बस स्टैंड टनल से पहले आगरा रोड, तारों की कूंट टोंक रोड, बदरवास नारायण विहार तिराहा अजमेर रोड और विद्याधर नगर स्टेडियम सीकर रोड पर बनाये गए है, जहां से रोडवेज और निजी बसों का संचालन होगा. ये बस स्टैंड 25 सितम्बर से 27 सितम्बर तक संचालित होगे. इसके साथ ही सभी रीट बस स्टैण्डों पर हेल्प डेस्क की भी व्यवस्था की जाएगी। साथ ही, अस्थाई रीट बस स्टैंड पर एक मेडिकल टीम का भी गठन किया जाएगा. 

अस्थाई बस स्टैंडों पर एसडीएम-तहसीलदारों की ड्यूटी
जयपुर शहर में पांच जगहों पर अस्थाई बस स्टैंड बनाए है. इन पर शहर के एसडीएम की ड्यूटी लगाई है. दिल्ली बाइपास पर सूरजपोल मंडी के बाहर बने बस स्टैंड पर प्रियव्रत सिंह चारण को, टनल से पहले ट्रांसपोर्ट नगर बस स्टैंड पर मनीष फौजदार को, तारों की कूट टोंक रोड पर राजेश कुमार नायक को, बदरवास नारायण विहार तिहारा लक्ष्मीकांत कटारा को और विद्याधर नगर स्टेडियम में राकेश मीना को ड्यूटी पर तैनात किया है.