LDC Recruitment 2013-2018: 1588 बैकलॉग पदों को लेकर फिर गुहार लगा रहे बेरोजगार

1588 बैकलॉग पदों पर 6 महीने पहले विभिन्न विभागों द्वारा नियुक्ति प्रक्रिया भी पूरी की गई लेकिन 6 महीने बाद भी बैकलॉग पदों की प्रतीक्षा सूची जारी नहीं करने पर बेरोजगारों ने फिर से सरकार को गुहार लगाना शुरू किया है.

LDC Recruitment 2013-2018: 1588 बैकलॉग पदों को लेकर फिर गुहार लगा रहे बेरोजगार
प्रतीकात्मक तस्वीर.

Jaipur: एलडीसी भर्ती (LDC Recruitment) 2013 और 2018 में एससी एसटी बैकलॉग के खाली पदों को भरने की मांग लंबे समय से हो रही है. मांग को लेकर दर्जन भर विधायकों के साथ बेरोजगारों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) से मुलाकात भी की. 

यह भी पढ़ें- Jaipur News: खाली पड़े हैं LDC Recruitment 2018 के करीब 600 पद, उठी नियुक्ति की मांग

इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बड़ी राहत देते हुए साल 2013 की एलडीसी भर्ती में एससी एसटी के 1588 बैकलॉग पदों को भर्ती 2018 में जोड़ने के निर्देश दिए, जिसके बाद तुरंत कार्रवाई करते हुए 1588 बैकलॉग पदों पर 6 महीने पहले विभिन्न विभागों द्वारा नियुक्ति प्रक्रिया भी पूरी की गई लेकिन 6 महीने बाद भी बैकलॉग पदों की प्रतीक्षा सूची जारी नहीं करने पर बेरोजगारों ने फिर से सरकार को गुहार लगाना शुरू किया है.

यह भी पढ़ें- एलडीसी भर्ती 2018 : अभ्यर्थियों का विधायकों के आवास पर धरना शुरू

बेरोजगारों ने सरकार से मांग की है कि साल 2013 की एलडीसी भर्ती में बैकलॉग के 1588 पदों पर नियुक्ति के बाद जो पद खाली रहे हैं, उन पर प्रतीक्षा सूची जारी की जाएगी. इसके साथ ही साल 2018 की भर्ती से भी एससी एसटी के बैकलॉग पदों की प्रतीक्षा सूची जारी कर बेरोजगारों को राहत दी जाए. 

एससी, एसटी बैंकलॉग संघर्ष समिति प्रदेश अध्यक्ष राधा मीणा (Radha Meena) का कहना है कि "2013 की भर्ती में एससी-एसटी के 1588 पद खाली रहे थे. लंबे संघर्ष के बाद सरकार ने इन पदों को 2018 की भर्ती में जोड़ने का फैसला किया और 6 महीने पहले बैकलॉग के पदों पर नियुक्ति भी दी गई लेकिन नियुक्ति के बाद भी अभी तक खाली रहे पदों की प्रतीक्षा सूची जारी नहीं की गई है जबकि विभिन्न विभागों द्वारा खाली रहे पदों की पूरी सूची प्रशासनिक सुधार विभाग को एक महीने पहले ही भेजी जा चुकी है, ऐसे में खाली रहे पदों पर जल्द से जल्द प्रतीक्षा सूची जारी नियुक्ति से वंचित रहे बेरोजगारों को राहत देनी चाहिए."