सत्ता और संगठन के फीडबैक पर खुलकर बोले विधायक, एक दिन और बढ़ी रायशुमारी, युवा विधायकों ने भी कि मंत्रिमंडल विस्तार-फेरबदल की मांग

राजस्थान विधानसभा में अजय माकन (Ajay Maken) के विधायकों से संवाद के दूसरे दिन आज कई तरह के दिलचस्प बयान दिखाई और सुनाई दिए.

सत्ता और संगठन के फीडबैक पर खुलकर बोले विधायक, एक दिन और बढ़ी रायशुमारी, युवा विधायकों ने भी कि मंत्रिमंडल विस्तार-फेरबदल की मांग

Jaipur : राजस्थान विधानसभा में अजय माकन (Ajay Maken) के विधायकों से संवाद के दूसरे दिन आज कई तरह के दिलचस्प बयान दिखाई और सुनाई दिए. कल के मुकाबले आज विधायकों ने सत्ता और संगठन के कामकाज को लेकर खुलकर अपनी राय माकन के समक्ष रखी. मंत्रियों की कार्यप्रणाली की शिकायत को जहां कुछ मंत्रियों ने निराधार बताया वहीं, कुछ का कहना था कि इससे सरकार के कामकाज को बेहतर बनाने में मदद मिलेगी. कई विधायकों ने आज मंत्रिमंडल विस्तार फेरबदल (cabinet expansion reshuffle) की मांग के साथ-साथ नॉन परफॉर्मेंस वाले मंत्रियों को हटाकर संगठन में जगह देने के साथ युवाओं को मंत्रिमंडल में शामिल करने की मांग तक कर डाली. यही वजह है कि विधायकों की मांग पर अजय माकन ने अपने फीडबैक कार्यक्रम का विस्तार किया है. कल माकन दिनभर पीसीसी में कांग्रेस (Congress) के टिकट पर हारे हुए प्रत्याशियों से और पीसीसी के पदाधिकारियों से भी फीडबैक लेंगे.

यह भी पढ़ें : Rajasthan: भीषण गर्मी से मिली राहत, अगले 24 घंटों में इन जिलों में अति बारिश के आसार

राजस्थान (Rajasthan News) की विधानसभा में माकन सर की क्लास आज भी जारी रही. आज दिनभर माकन ने 20 जिलों के 53 विधायकों से फीडबैक लिया.

शुरुआत अजमेर जिले से हुई तो इसके बाद नागौर, भीलवाड़ा, उदयपुर, राजसमंद, प्रतापगढ़, डूंगरपुर, चित्तौड़, बासवाड़ा, बीकानेर, चूरू, गंगानगर, हनुमानगढ़, बाड़मेर, जोधपुर, जैसलमेर, जालौर, पाली और सबसे आखिर में सिरोही के विधायकों से माकन ने मुलाकात की.

खबरें आई थी कि कल कुछ विधायकों ने मंत्रियों की कार्यशैली को लेकर नाराजगी जताई तो आज चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने इन खबरों को निराधार बताया है. रघु शर्मा ने कहा है कि किसी भी मंत्री की कोई शिकायत नहीं की गई है. सभी मंत्री बेहतर तरीके से काम कर रहे हैं. रघु शर्मा ने कहा जो दिखता है वह होता नहीं जो होता है वह दिखता नहीं. रघु शर्मा ने कहा मेरे खिलाफ जानबूझकर खबरें चलवाई गई है. वहीं, जलदाय और ऊर्जा मंत्री बीडी कल्ला बोले सांच को आंच नहीं हैं जो आरोप लगा रहे हैं वह साबित करें. मेरे दरवाजे हमेशा खुले रहते हैं माकन के मंथन से निश्चित तौर पर कुछ बेहतर ही निकलेगा.

वहीं, दूसरी और मंत्रियों की शिकायत के सवाल पर उप मुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी ने कहा शिकायत जैसी कोई बात नहीं है, लेकिन विधायकों ने अपनी बात रखी है. माकन जो फीडबैक ले रहे हैं वह सत्ता और संगठन के कामकाज को बेहतर बनाने के लिए ही लिया जा रहा.

अजय माकन के संवाद के दौरान आज पायलट कैंप (Pilot Camp) के साथ-साथ गहलोत कैंप के विधायकों ने भी मंत्रिमंडल विस्तार और फेरबदल की मांग को पुरजोर तरीके से माकन के समक्ष रखा. विधायक रामनिवास गावड़िया ने कहा हमने मंत्रियों की शिकायत के अलावा कई मुद्दों पर अपनी बात माकन के समक्ष रखी है. मंत्री समय पर बैठक नहीं ले रहे. हमारी समस्याओं पर सुनवाई नहीं होती। 2 साल बाद पार्टी को चुनाव में जाना है. लिहाजा राजनीतिक नियुक्तियां और ब्लॉक अध्यक्ष बनने चाहिए। अन्यथा सबको खामियाजा भुगतना पड़ेगा. विधायक मुकेश भाकर ने कहा कैबिनेट में युवाओं को जगह मिलनी चाहिए पायलट की भूमिका को लेकर पार्टी को निर्णय करना है.

पायलट कैंप के विधायकों की इसी बात को आगे बढ़ाते हुए गहलोत कैंप के विधायक प्रशांत बैरवा ने मंत्रिमंडल फेरबदल विस्तार जल्द करवाने की मांग कर डाली. बैरवा ने कहा जो नॉन परफॉर्मर मंत्री हैं उन्हें हटाकर नए लोगों को मौका मिलना चाहिए. पार्टी में सभी नेताओं का अपना महत्व होता है. जो लोग मंत्रिमंडल में अच्छा नहीं कर पा रहे उन्हें संगठन में मौका दिया जा सकता है.

दरअसल विधायकों की सूची और शिकायत के बाद अब अजय माकन ने अपने दौरे का दायरा बढ़ा लिया है. अब केवल कांग्रेस के विधायक और समर्थित विधायक ही नहीं बल्कि हारे हुए प्रत्याशी और पीसीसी के पदाधिकारियों से भी फीडबैक लिया जाएगा। यानी माकन चाहते हैं कि इस महामंथन के फीडबैक से जो कुछ निकले उसका असर व्यापक और दूर तक सुनाई दे. देखना होगा माकन की इस रिपोर्ट के आधार पर मंत्रिमंडल विस्तार फेरबदल राजनीतिक नियुक्तियों और जिला स्तर पर संगठन में क्या बदलाव नजर आते हैं.

यह भी पढ़ें : Rajasthan बनेगा निर्यात स्थान, प्रदेश में Launch हुआ 'मिशन निर्यातक बनो'