नाबार्ड के चेयरमैन डॉ. जीआर चिंतला ने की CM Gehlot से मुलाकात, संचालित योजनाओं पर हुई चर्चा

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने प्रदेश में सहकारिता आंदोलन को गति देने तथा सहकारी संस्थाओं को मजबूत बनाने में नाबार्ड से और अधिक सहयोग का आह्वान किया है. 

नाबार्ड के चेयरमैन डॉ. जीआर चिंतला ने की CM Gehlot से मुलाकात, संचालित योजनाओं पर हुई चर्चा
नाबार्ड चेयरमैन डॉक्टर जी आर चिन्तला ने की सीएम से मुलाकात.

Jaipur : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) ने प्रदेश में सहकारिता आंदोलन को गति देने तथा सहकारी संस्थाओं को मजबूत बनाने में नाबार्ड से और अधिक सहयोग का आह्वान किया है. उन्होंने कहा है कि सहकारिता के माध्यम से प्रदेश के विकास से जुड़ी परियोजनाओं में नाबार्ड और अधिक सशक्त एवं सक्रिय भागीदारी निभा सकता है. गहलोत से सोमवार को मुख्यमंत्री निवास पर नाबार्ड के चेयरमैन डॉ. जीआर चिंतला (Dr GR Chintala) ने मुलाकात की. 

इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार (Rajasthan Government) प्रदेश में सहकारी संस्थाओं को बढ़ावा देने तथा उनके वित्तीय सशक्तीकरण के लिए लगातार प्रयास कर रही है. उन्होंने नाबार्ड चेयरमैन से प्रदेश में ग्राम सेवा सहकारी संस्थाओं के विस्तार तथा उनके कम्प्यूटरीकरण में सहयोग के लिए कहा. साथ ही ग्राम सेवा सहकारी समितियों के कार्य विविधिकरण पर जोर देते हुए इन्हें अन्य नवीन गतिविधियों जैसे कृषि प्रसंस्करण एवं मार्केटिंग से जोड़ने के लिए नाबार्ड की योजनाओं के तहत लाभान्वित करने की बात कही.

यह भी पढ़े- PCC ने संगठन में नियुक्तियों का खाका किया तैयार, इस बार पार्टी ने निकाला ये नया फार्मूला

मुख्यमंत्री ने नाबार्ड का आह्वान किया कि हैण्डीकाफ्ट्स से जुड़े लोगों एवं मसाला उत्पादकों को अपने उत्पादों का उपयुक्त दाम दिलाने के लिए राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मार्केट लिंकेज उपलब्ध कराने में नाबार्ड सहयोग करे. गहलोत ने इस दौरान नाबार्ड से प्रदेश के लिए आधारभूत संरचनाओं के विकास के लिए ऋण लक्ष्यों को 1800 करोड़ रूपए वार्षिक से बढ़ाकर 10 हजार करोड़ रूपए वार्षिक तक करने का भी आग्रह किया. इससे राज्य सरकार को सड़क, कृषि, पशुपालन एवं ग्रामीण विकास से जुड़ी योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन में मदद मिलेगी. 

एफपीओ, स्वयंसेवा सहायता समूहों को सशक्त बनाने तथा उद्यमिता विकास के लिए ऋण एवं अनुदान सहायता प्रदान करने पर भी चर्चा हुई. प्रदेश में मसाले औषधिय पौधों एवं दलहन-तिलहन के वृहद उत्पादन के मद्देनजर कृषि प्रसंस्करण को बढ़ावा देने के लिए नाबार्ड की योजनाओं का अधिकाधिक लाभ यहां के किसानों एवं उद्यमियों को दिलाने के लिए सहयोग करने को कहा. नाबार्ड चेयरमैन ने मुख्यमंत्री को बैंक के माध्यम से प्रदेश में ग्रामीण आधारभूत संरचना के विकास से जुड़ी परियोजनाओं में किए जा रहे वित्तीय सहयोग के बारे में जानकारी दी. उन्होंने कहा कि प्रदेश के विकास के लिए नाबार्ड पूर्ण सहयोग करेगा.