Jaipur: 10 दिन से भी कम समय में शुरू हुआ ऑक्सीजन प्लांट, मरीजों के लिए आपूर्ति चालू

Jaipur News: उत्तर पश्चिम रेलवे के मंडल चिकित्सालय, जोधपुर में रिकार्ड 10 दिन से भी कम समय में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट की स्थापना कर 6 मई को सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया.

 Jaipur: 10 दिन से भी कम समय में शुरू हुआ ऑक्सीजन प्लांट, मरीजों के लिए आपूर्ति चालू
10 दिन से भी कम समय में शुरू हुआ ऑक्सीजन प्लांट. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Jaipur: कोरोना संक्रमित मरीजों को ऑक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति के लिए मंडल चिकित्सालय, जोधपुर में रिकार्ड 10 दिन से भी कम समय में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट शुरू किया गया. परीक्षण सफलतापूर्वक करने के पश्चात् सोमवार से मरीजों को ऑक्सीजन की आपूर्ति शुरू कर दी गई.

दरअसल, वर्तमान में कोरोना वायरस की दूसरी लहर में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए रेलवे द्वारा चिकित्सा सुविधाओं को सुदृढ़ किया जा रहा है. वर्तमान परिस्थितियों को ध्यान में रखकर कोरोना संक्रमित मरीजों को ऑक्सीजन की आवश्यकता को देखते हुए केंद्रीय रेल, वाणिज्य एवं उद्योग, उपभोक्ता कार्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री पीयूष गोयल के दिशा-निर्देशानुसार उत्तर पश्चिम रेलवे पर स्थित सभी मंडल चिकित्सालयों तथा केन्द्रीय चिकित्सालय, जयपुर में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगाए जाने का कार्य किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें-मरीजों के इलाज के लिए दिए जाएंगे स्कूल लैब में रखे ऑक्सीजन सिलेंडर: डोटासरा

 

इसी क्रम में उत्तर पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक आनंद प्रकाश द्वारा रेलमंत्री के निर्देशों का पालन करने के लिये विशेष प्रयास कर सभी मंडल तथा केन्द्रीय चिकित्सालय, जयपुर में जल्द ही ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट स्थापित करने के निर्देश दिए गए हैं. उत्तर पश्चिम रेलवे के मंडल चिकित्सालय, जोधपुर में रिकार्ड 10 दिन से भी कम समय में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट की स्थापना कर 6 मई को सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया.

9 मई को 3 घंटे का सफल ट्रायल रन पूरा किया गया. जोधपुर चिकित्सालय में स्थापित आक्सीजन जनरेशन प्लांट को सोमवार को मरीजों के लिए ऑक्सीजन आपूर्ति हेतु प्रारंभ कर दिया गया. मंडल चिकित्सालय जोधपुर में 250 लीटर/मिनट क्षमता को ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट स्थापित किया गया है.

इस ऑक्सीजन प्लांट के प्रारम्भ होने से रेलवे चिकित्सालय अब ऑक्सीजन आपूर्ति के मामले में आत्मनिर्भर हो सकेगा. मंडल चिकित्सालय, जोधपुर में 50 बेड कोविड मरीजों के लिये डेडीकेटड रखे गये हैं, जिनमें से वर्तमान में ऑक्सीजन प्लांट से सीधे पाइप लाइन के माध्यम से 25 पोर्ट पर 10 लीटर/मिनट से निर्बाध ऑक्सीजन आपूर्ति की जाएगी, शेष पर भी शीघ्र ही पाइप लाइन से आपूर्ति की जाएगी. 

इस ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट में तकनीकी सुदृढ़ता का भी विशेष ध्यान रखा गया है. जिसमें इससे प्राप्त होने वाली ऑक्सीजन की शुद्धता का स्तर 90 प्रतिशत से कम होने पर अलार्म, प्लांट में एयर का तापमान 60 डिग्री सेल्सियस से अधिक होन पर अलार्म तथा प्रेसर 3.5 बार से नीचे जाने पर कम्प्रेसर बंद होने के प्रावधान है.

मंडल चिकित्सालय, जोधपुर में यह सुविधा के प्रारम्भ होने से कोविड संक्रमित रेलकर्मी व उनके परिजनों समयानुसार व बेहतर उपचार प्राप्त होगा. मंडल चिकित्सालय, जोधपुर में मंडल रेल प्रबंधक, जोधपुर गीतिका पांडेय के बेहतर प्रबंधन से रिकार्ड समय में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट स्थापित किया गया है.

ये भी पढ़ें-SMS Hospital में पहुंचा Liquid Medical Oxygen Tank, मरीजों को मिलेगी इससे बड़ी राहत

 

इसमें मशीनरी की आपूर्ति से पूर्व सिविल इंजीनियरिंग तथा विद्युत कार्यों को पूरा किया गया एवं केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत के प्रयासो से जियोलाइट कैमिकल की उपलब्धता प्राप्त हुई. अपर मंडल रेल प्रबंधक, जोधपुर जीआर कुमावत ने सभी विभागों से समन्वय कर इस कार्य को जल्द ही पूरा किया. 

उत्तर पश्चिम रेलवे के अन्य तीनों मंडलों व केन्द्रीय चिकित्सालय, जयपुर में ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट की स्थापना के लिए टेंडर जारी कर दिए गए हैं तथा युद्व स्तर पर कार्य शीघ्र ही शुरू हो जाएंगे. जयपुर में दो प्लांट लगाए जाएंगे तथा सभी स्थानों पर 250 लीटर/मिनट क्षमता के ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगाए जाएंगे. आवश्यकतानुसार इनकी क्षमता कम या अधिक किए जाने का प्रावधान होगा.