धारीवाल मियावाकी पद्धति से सुधारेंगे प्रदेश का पर्यावरण, 20 हजार पौधों से शहर होगा हरा-भरा
X

धारीवाल मियावाकी पद्धति से सुधारेंगे प्रदेश का पर्यावरण, 20 हजार पौधों से शहर होगा हरा-भरा

शहर में पत्थरों के कंक्रीट के बीच पेड़-पौधों के लिए जगह कम बची. कम जगह में ज्यादा पेड़-पौधे लगाने के लिए जेडीए जापानी मियावाकी पद्धति से सघन वृक्षारोपण की तकनीकी लेकर आया. 

धारीवाल मियावाकी पद्धति से सुधारेंगे प्रदेश का पर्यावरण, 20 हजार पौधों से शहर होगा हरा-भरा

Jaipur: शहर की आबोहवा को शुद्ध बनाने के लिए सघन वृक्षारोपण किया जाएगा. इसके लिए मियावाकी पद्धति का सहारा लिया जाएगा. शहर में मियावाकी पद्धति से करीब एक लाख 20 हजार पौधे तैयार कर शहर को हरा-भरा किया जाएगा. नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल (Minister Shanti Dhariwal) ने रविवार को अधिकारियों के साथ जवाहर सर्किल पार्क (Jawahar Circle Park) का दौरा कर इस पद्धति की जानकारी ली. 

यह भी पढ़ें: महिला किसान ने पनपाया 4 हेक्टर में अनार का बगीचा, आप भी ऐसा करके कमा सकते हैं लाखों

कोरोना (Corona) काल में शहर ने ऑक्सीजन की कमी से लोगों को दम तोड़ते देखा है. हर किसी को पेड़-पौधों से मिलने वाली शुद्ध वायु और प्राणवायु की कीमत पता चली. शहर में पत्थरों के कंक्रीट के बीच पेड़-पौधों के लिए जगह कम बची. कम जगह में ज्यादा पेड़-पौधे लगाने के लिए जेडीए जापानी मियावाकी पद्धति से सघन वृक्षारोपण की तकनीकी लेकर आया. 

वृक्षारोपण अभियान
नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने रविवार को अधिकारियों के साथ जवाहर सर्किल का दौरा किया. धारीवाल ने जयपुर (Jaipur News) शहर के विभिन्न पार्को और जविप्राभूमियों पर मियावाकी पद्धति से 10 स्थानों पर सघन वृक्षारोपण की जानकारी ली. धारीवाल के साथ दौरे में प्रमुख सचिव कुंजीलाल मीणा, जेडीसी गौरव गोयल और अन्य अधिकारी मौजूद थे. धारीवाल, मीणा और गोयल ने जवाहर सर्किल पर पौधरोपण कर सघन वृक्षारोपण अभियान की शुरुआत की. मंत्री ने बताया कि मियावाकी पद्धति  में छोटे-छोटे स्थानों पर छोटे-छोटे पौधे रोपे जाते हैं, जो साधारण पौधों की तुलना में दस गुनी तेजी से बढ़ते हैं. 

यह भी पढ़ें: पेड़ों को सीमेंट-कंक्रीट से बचाने की मुहिम शुरू, शांति धारीवाल ने किया अभियान का आगाज

नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने जवाहरसर्किल पर नाइट ट्यूरिज्म की संभावनाओं पर भी चर्चा की. जवाहर सर्किल के एक हिस्से में लाइट एंड साउंड शो, लाइटिंग, रंगमंच के विविध आयोजन होने को लेकर अधिकारियों से चर्चा की. इस मौके पर तय किया गया कि इन कार्यक्रमों के लिए एक समिति बनाई जाएगी, जिसमें जेडीए अधिकारियों की आधे से अधिक भागीदारी रहेगी. आयोजनों से होने वाली आय को जवाहर सर्किल पार्क के रखरखाव और विकास पर ही खर्च किया जाएगा.

 

 

Trending news