Rajasthan: कोर्ट ने GST चोरी को बताया 'व्हाइट कॉलर अपराध', जमानत अर्जी की खारिज

अदालत ने कहा कि आरोपियों का अपराध देश की अर्थव्यवस्था को विपरीत रूप से प्रभावित करने वाला 'व्हाइट कॉलर' अपराध है. ऐसे में उन्हें जमानत का लाभ नहीं दिया जा सकता.

Rajasthan: कोर्ट ने GST चोरी को बताया 'व्हाइट कॉलर अपराध', जमानत अर्जी की खारिज
कोर्ट ने जीएसटी चोरी के आरोपियों की जमानत अर्जी खारिज की. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Jaipur: अतिरिक्त सत्र न्यायालय क्रम-4 ने जीएसटी (GST) चोरी के मामले में आरोपी ऋषिराज स्वामी और हरीश कुमार जैन की जमानत अर्जियों को खारिज कर दिया है. अदालत ने कहा कि आरोपियों का अपराध देश की अर्थव्यवस्था को विपरीत रूप से प्रभावित करने वाला 'व्हाइट कॉलर' अपराध है. ऐसे में उन्हें जमानत का लाभ नहीं दिया जा सकता.

दरअसल, आरोपियों की ओर से कहा गया कि उन्हें प्रकरण में झूठा फंसाया गया है. उनसे  किसी तरह का अनुसंधान भी शेष नहीं है. ऐसे में उन्हें नियमित जमानत पर रिहा किया जाए या कोरोना महामारी को देखते हुए छह सप्ताह के लिए अंतरिम जमानत दी जाए. 

वहीं, जमानत विरोध करते हुए विभाग की ओर से कहा गया कि आरोपी ऋषिराज की ओर से अपनी फर्म में फर्जी खरीद-बेचान कर करीब 21 करोड़ रुपए के इनपुट टैक्स क्रेडिट का लाभ उठाया गया है. इसी तरह हरीश जैन ने फर्जी फर्मो के जरिए 33 करोड़ रुपए से अधिक का अवैध लाभ उठाया. ऐसे में आरोपियों को जमानत नहीं दी जानी चाहिए. 

(इनपुट-महेश पारिक)