झुझुंनू: मंदिर के बाहर लावारिस हालत में मिली नवजात बच्ची, पुजारी ने पहुंचाया अस्पताल

चौकीदार के साथ आस-पड़ोस के लोग बच्ची को लेकर मुकुंदगढ़ के सरकारी अस्पताल पहुंचे, जहां से बच्ची को झुंझुनू के बीडीके अस्पताल रेफर किया गया. 

झुझुंनू: मंदिर के बाहर लावारिस हालत में मिली नवजात बच्ची, पुजारी ने पहुंचाया अस्पताल
फाइल फोटो

झुंझुनू: राजस्थान के झुंझुनू जिले में मुकुंदगढ़ स्थित घोड़ीवारा बालाजी मंदिर के बाहर सर्द रात में एक नवजात बच्ची लावारिस हालत में मिली. रात को करीब दो बजे मंदिर के चौकीदार को एक बच्ची के रोने की आवाज सुनाई दी. उसने बाहर आकर देखा तो मंदिर के बाहर बने प्याऊ के पास एक नवजात बच्ची दो कंबलों में लिपटी हुई रो रही थी. 

चौकीदार के साथ आस-पड़ोस के लोग बच्ची को लेकर मुकुंदगढ़ के सरकारी अस्पताल पहुंचे, जहां से बच्ची को झुंझुनू के बीडीके अस्पताल रेफर किया गया. फिलहाल बच्ची इस अस्पताल में भर्ती है और उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है. बच्ची का इलाज कर रहे शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. वी.डी. बाजिया ने बताया कि बच्ची को जन्म के चार से पांच घंटे बाद ही लावारिस छोड़ा गया है और यह भी नहीं लग रहा है कि इसकी डिलिवरी प्रशिक्षित चिकित्सा स्टाफ व चिकित्सक द्वारा कराई गई है.

चाहे छह डिग्री की ठंड में मां ने बच्ची को छोड़ दिया हो लेकिन बीडीके अस्पताल के स्टाफ ने अपना नाता बच्ची के साथ जोड़ लिया है. बच्ची की देखभाल के लिए न केवल एक विशेष टीम लगाई गई है बल्कि बच्ची के नामकरण से लेकर उसकी देखभाल करने तक की योजना बनाई जा रही है. बच्ची को अस्पताल में ही नाम देकर पूरी तरह स्वस्थ किया जाएगा और फिर जयपुर भेजा जाएगा.

बच्ची को गोद लेने वालों के फोन भी बजने लगे हैं. चिकित्सकों के अलावा मीडियाकर्मियों के पास ऐसे एक दर्जन से अधिक लोगों के फोन आए हैं, जिन्होंने बच्ची को गोद लेने की मंशा जाहिर की है लेकिन केंद्र सरकार के नए नियम-कानून के मुताबिक अब बच्ची को गोद लेने के लिए केंद्रीय दत्तक ग्रहण एजेंसी को आवेदन करना होगा, इसके बाद ही बच्ची को गोद लिया जा सकेगा.

झुंझुनू जिले के ही भानीपुरा गांव में कुछ माह पहले एक नवजात बच्ची को कोई शिव मंदिर के बाहर चबूतरे पर छोड़ गया था . सुबह मंदिर के पुजारी को यह बच्ची मिली थी. पुलिस की सहायता से उस बच्ची को झुंझुनू के बीडीके अस्पताल में भर्ती कराया गया था. बीडीके अस्पताल के स्टाफ ने बच्ची को लक्ष्मी नाम दिया.

(इनपुट आईएएनएस)