झुंझुनूं का नवाचार फिर से राजस्थान में लागू, महिलाओं को जागरूक करेगी मैत्री पुलिस

आदेशों के मुताबिक 13 अक्टूबर से 12 नवंबर तक पूरे प्रदेश में आवाज कार्यक्रम शुरू किया गया है. 

झुंझुनूं का नवाचार फिर से राजस्थान में लागू, महिलाओं को जागरूक करेगी मैत्री पुलिस
प्रतीकात्मक तस्वीर.

संदीप केडिया, झंझुनू: बात चाहे बेटियों की हो या फिर महिलाओं की, झुंझुनूं के नवाचार पूरे प्रदेश और देश के लिए मिसाल बने हैं. अब एक बार फिर झुंझुनूं में शुरू किया गया कार्यक्रम पूरे प्रदेश में लागू किया गया है. 

दरअसल, राजस्थान पुलिस ने एक माह के लिए 13 अक्टूबर से 12 नवंबर तक आवाज कार्यक्रम शुरू किया है, जिसमें वे विभिन्न विभागों को साथ लेकर महिलाओं और बच्चियों की सुरक्षा और उनके अधिकारों पर चर्चा करेंगे.

करीब एक साल पहले झुंझुनूं के तत्कालीन एसपी गौरव यादव ने महिलाओं और बालिकाओं को उनके अधिकारों और कानून को बताने के साथ-साथ उनकी सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए महिला अधिकारिता विभाग के सहयोग से मैत्री कार्यक्रम शुरू किया था, तब यह कार्यक्रम केवल झुंझुनूं जिले में चलाया गया था लेकिन अब इसी कार्यक्रम को राजस्थान पुलिस ने पूरे प्रदेश में लागू किया है. 

12 नवंबर तक चलेगा पूरे प्रदेश में आवाज कार्यक्रम
हाल ही में पुलिस मुख्यालय से जारी आदेशों के मुताबिक 13 अक्टूबर से 12 नवंबर तक पूरे प्रदेश में आवाज कार्यक्रम शुरू किया गया है. करीब एक महीने तक इस कार्यक्रम के तहत महिलाओं, स्कूल की बच्चियों और वर्किंग वुमन के अलावा स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को प्रत्यक्ष एवं वेबीनर के जरिए कानून की जानकारियां दी जाएगी. साथ ही उनके साथ संवाद स्थापित किया जाएगा.

सभी विभागों का सहयोग लिया जा रहा 
इस संदर्भ में झुंझुनूं में काम शुरू हो गया है. एसपी जेसी शर्मा ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ बैठकर कर न केवल कार्य योजना बनाई है बल्कि इस संदर्भ में कार्यक्रमों का आयोजन भी शुरू कर दिया है. एसपी जेसी शर्मा ने बताया कि जिस तरह से इस कार्यक्रम की थीम झुंझुनूं के मैत्री कार्यक्रम से ली गई है. वहीं अब वे चाहते है कि आवाज के तहत होने वाले कार्यक्रम भी पूरे प्रदेश के लिए मिसाल बनें. इसके लिए सभी विभागों का सहयोग लिया जा रहा है.

एक्शन अगेंस्ट वुमन रिलेटेड क्राइम एंड अवेयरनेस फॉर जस्टिस
राजस्थान पुलिस द्वारा शुरू किए गए आवाज कार्यक्रम का मतलब है कि एक्शन अगेंस्ट वुमन रिलेटेड क्राइम एंड अवेयरनेस फॉर जस्टिस, इसके तहत झुंझुनूं में एक साल पहले शुरू की गई मुहिम अब पूरे प्रदेश की आवाज बनेगी. 

यह पहला मौका नहीं है, जब महिलाओं और बालिकाओं के लिए बने कार्यक्रम पूरे प्रदेश और देश के आगे मिसाल बने हैं लेकिन राजस्थान पुलिस ने संभवतया पहली बार झुंझुनूं से शुरू हुए कार्यक्रम की थीम को न केवल अपनया है बल्कि इसे लागू भी किया है, जो कम से कम झुंझुनूं के लिए फर्क की बात है.