close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जोधपुर: आदर्श अस्पताल पर लटक रहा ताला, इलाज के लिए दर-दर भटक रहे लोग

सर्दियों में सुबह 9:00 से 1:00 बजे तथा शाम 4:00 बजे से 6:00 बजे तक का समय निर्धारित है. वहीं गर्मियों में सुबह 8:00 से 12:00 बजे तथा शाम 5:00 से 7:00 बजे का समय निर्धारित बताया गया है. 

जोधपुर: आदर्श अस्पताल पर लटक रहा ताला, इलाज के लिए दर-दर भटक रहे लोग
प्रतीकात्मक तस्वीर

बाड़मेर: जिले के गुड़ामालानी उपखंड क्षेत्र के भाखरपुरा के ग्रामीण इलाज के लिए दर-दर की ठोकरे खाने को मजबूर है क्योंकि यहां का आदर्श अस्पताल ताले में बंद है. यहां ना कोई सुविधा है और ना ही इलाज और तो और डॉक्टर भी उपस्थित नहीं मिलते. लोगों को इलाज के लिए जान जोखिम में डालकर मजबूरन झोलाछापों का सहारा लेना पड़ रहा है. 

ग्रामीणों का कहना है कि यहां कभी डॉक्टर और अन्य कर्मचारी नजर नहीं आते. लगभग अधिकतर समय ताला लटका नजर आता है. अस्पताल प्रशासन की ओर से गेट के बाहर बोर्ड पर डिलीवरी प्रसव के लिए 24 घंटे सेवा उपलब्ध रहने का वादा किया गया है लेकिन यहां तो रात तो दूर दिन में भी डॉक्टर साहब ताला लटका कर चले गए. बाहर लगाए गए बोर्ड पर सर्दियों और गर्मियों के लिए अलग-अलग समय भी चस्पा किए हुए हैं. 

सर्दियों में सुबह 9:00 से 1:00 बजे तथा शाम 4:00 बजे से 6:00 बजे तक का समय निर्धारित है. वहीं गर्मियों में सुबह 8:00 से 12:00 बजे तथा शाम 5:00 से 7:00 बजे का समय निर्धारित बताया गया है. ग्रामीणों का आरोप है कि आदर्श प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र होने के बावजूद सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं. अस्पताल में कभी कभार अगर कोई डॉक्टर मिलता है तो पर्ची पर दवाइयां बहार प्राइवेट मेडिकल से खरीदनी पड़ती है. मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के तहत मरीजों को दवाइयां भी उपलब्ध नहीं करवाई जाती हैं. जिसके चलते मजबूरन झोलाछाप और प्राइवेट अस्पतालों का सहारा लेना पड़ रहा है.

मामले के संबंध में जब चिकित्सा अधिकारियों से बात करनी चाही तो ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर तेजपाल सिंह ने बताया कि अनुपस्थित मिले कर्मचारियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने बताया कि अस्पताल प्रभारी VC में थे लेकिन अन्य स्टाफ को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए हैं. अब देखना होगा कि क्या कारण बताओ नोटिस से काम चलाएंगे या कोई ठोस कदम उठाकर अनुपस्थित पाए जाने वाले कर्मचारियों पर कार्रवाई हो पाएगी.