close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जोधपुर की फसलों पर फिर टिड्डी दल का खतरा, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट

केएल गुर्जर ने बताया कि टिड्डी दल के प्रकोप को लगातार कम किया जा रहा है और फिलहाल जैसलमेर जिले से यह टिड्डी दल क्रॉस नहीं किया है.

जोधपुर की फसलों पर फिर टिड्डी दल का खतरा, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट
प्रतीकात्मक तस्वीर

बाड़मेर: जोधपुर संभाग के सरहदी जिले जैसलमेर के पाकिस्तान से सटे इलाकों में पिछले कुछ दिनों से टिड्डी दल का प्रकोप देखा जा रहा है. अचानक करोड़ो टिड्डियों का प्रकोप पोकरण, रामदेवरा सहित आसपास के इलाकों में देखा गया है. 26 साल बाद एक बार फिर टिड्डियों के प्रकोप के बाद किसान काफी चिंतित नजर आ रहे हैं. वहीं केंद्र सरकार ने टिड्डी दल को नियंत्रित करने के लिए उप निदेशक सहित 40 अधिकारियों कर्मचारियों की विशेष टीम जोधपुर भेजी है जो लगातार इसके मूवमेंट पर नजर बनाए हुई है और उस प्रकोप को कम करने का प्रयास कर रही है. 

केएल गुर्जर ने बताया कि टिड्डी दल के प्रकोप को लगातार कम किया जा रहा है और फिलहाल जैसलमेर जिले से यह टिड्डी दल क्रॉस नहीं किया है. उन्होंने बताया कि किसानों को चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि अभी कोई फसल खेतों में नहीं है. ऐसे में टिड्डी दल का ज्यादा प्रभाव नहीं होगा.

केएल गुर्जर ने ज़ी मीडिया से बात करते हुए बताया कि हालांकि उन्होंने प्रथम दृष्टया टिड्डी पर नियंत्रण पा लिया है लेकिन अभी भी पोकरण सहित कुछ इलाके जो वन विभाग के अंतर्गत आते हैं वहां उन्हें टिड्डी को समाप्त करने में परेशानी आ रही है. राज्य पक्षी गोडावण उन इलाकों में विचरण करते हैं और अगर वहां पर छिड़काव किया जाता है तो गोडावण की जान को खतरा हो सकता है इसलिए वन विभाग वहां पर छिड़काव करने की अनुमति नहीं दे रहा है. इसके लिए सरकार को पत्र लिखा गया है जिसके बाद दोनों विभाग मिलकर इसका कोई हल निकाल लेंगे.

टिड्डी नियंत्रण विभाग के उपनिदेशक केएल गुर्जर का मानना है कि कि फिलहाल टीडी पर तो नियंत्रण पा लिया गया है लेकिन बरसात के दिनों में इनके फिर से पनपने की आशंका को लेकर प्रशासन पूरा अलर्ट मोड पर है. गांव के लोगों के साथ साथ तमाम सरकारी विभागों के कर्मचारियों से सामंजस्य बनाया हुआ है और कोई भी सूचना या रिपोर्ट आती है तो उस पर तुरंत ही कार्रवाई की जा रही है.

वहीं टिड्डी दल के हमले की आशंका को लेकर किसानों को भी चिंता सता रही है लेकिन लोगों को विश्वास है कि सरकार इन पर नियंत्रण पा लेगी और आने वाले मानसून में उनकी फसलों को कोई नुकसान नहीं होगा.