close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जोधपुर: पुलिस ने ट्रेन से जब्त की अवैध शराब की 300 बोतलें, अज्ञातों के खिलाफ मामला किया दर्ज

शराब तस्कर ट्रेन के टॉयलेट में छुपाकर शराब को जोधपुर लेकर आते हैं और यहां से शराब बंदी वाले राज्य गुजरात में शराब की तस्करी करते हैं.

जोधपुर: पुलिस ने ट्रेन से जब्त की अवैध शराब की 300 बोतलें, अज्ञातों के खिलाफ मामला किया दर्ज
मंडोर एक्सप्रेस ट्रेन से शराब को गुजरात भेजी जा रही थी. (फाइल फोटो)

जोधपुर/ भवानी भाटी: मादक पदार्थो की तस्करी के काले कारोबार में जुड़े माफिया ने भी तस्करी के नए नए तरीके ईजाद किए हैं. हाल ही में ट्रेन के माध्यम से शराब तस्करी का मामला सामने आया है. दिल्ली, हरियाणा, जोधपुर के रास्ते गुजरात में ट्रेन से शराब तस्करी का खुलासा तब हुआ जब मंडोर एक्सप्रेस के कोच में बाथरूम की छत में छुपाकर ले जाई जा रही अवैध शराब पकड़ी गई. जीआरपी को मिली आंशिक सफलता के बाद अब जीआरपी गिरोह नेटवर्क के तह तक जाने के लिए जुटी है. इसके लिए अलग अलग टीमों का गठन भी किया गया है. 

जीआरपी थाना जोधपुर ने पिछले 2 दिनों में मंडोर एक्सप्रेस ट्रेन से अवैध शराब की लगभग 3 सौ से अधिक बोतलों को जब्त किया है. इसके बाद जीआरपी ने एक टीम का गठन किया है जो इस तरह के तस्करी के मामलों का खुलासा करेगी. दरअसल, शराब तस्करों द्वारा ट्रेन के टॉयलेट की छत पर छुपा कर शराब की तस्करी की जा रही थी. मंडोर एक्सप्रेस ट्रेन से शराब को गुजरात भेजी जा रही थी लेकिन जीआरपी पुलिस द्वारा पिछले 2 दिनों में शराब के खिलाफ कार्रवाई करने के बाद अब शराब तस्कर सकते में आ गए हैं. जीआरपी पुलिस की एसपी ममता राहुल का कहना है कि वो इस पूरे मामले को जल्द ही खुलासा करेगी और शराब की तस्करी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश करेगी.

शराब तस्कर ट्रेन के टॉयलेट में छुपाकर शराब को जोधपुर लेकर आते हैं और यहां से शराब बंदी वाले राज्य गुजरात में शराब की तस्करी करते हैं. जोधपुर में जप्त की गई 300 से अधिक शराब की बोतलों के मामले में पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. जीआरपी थाना पुलिस जल्द ही इस पूरे मामले का खुलासा करेगी. जीआरपी एसपी ममता राहुल ने इस पूरे मामले पर स्पेशल टीम का गठन किया है जो मंडोर एक्सप्रेस ट्रेन से होने वाली शराब तस्करी पर निगरानी रखेंगे. इस पूरे मामले को जल्द से जल्द खुलासा करने का प्रयास करेगी. जीआरपी एसपी पर ममता राहुल का कहना है कि शराब की बोतलों को ट्रेन की बाथरूम में छुपाना कहीं ना कहीं रेलवे कर्मचारी या ट्रेन में कार्यरत ठेकाकर्मियों की मिलीभगत से ही हो सकता है. इनकी मिलीभगत के बिना यह संभव नहीं है.