close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाड़मेर: कोबरा मैन नाम के इस शख्स ने अब तक पकड़े 2100 सांप, जानें पूरा मामला...

दीपक दिन में कम से कम 6 से 7 सांपों का रेस्क्यू कर लेते हैं. अगर कोबरा कुए के अंदर 100 फीट नीचे भी दिख जाए तो उसको बचाने के लिए वह खुद कुए के अंदर चले जाते हैं.

बाड़मेर: कोबरा मैन नाम के इस शख्स ने अब तक पकड़े 2100 सांप, जानें पूरा मामला...
दीपक ने बाड़मेर जिले में करीब 2100 से अधिक सांपों को पकड़ा है.

भूपेश आचार्य/बाड़मेर: राजस्थान के बाड़मेर जिले के कोबरा मैन से जिसे हर कोई कोबरा में के नाम से पुकारता है क्योंकि उसका असली नाम दीपक सेन है. पिछले 5 सालों में वह अब तक 2100 से ज्यादा सांप और उसकी प्रजाति के जीवन को बचा चुके हैं. लिहाजा बाड़मेर जिले के लोग अब उसे कोबरा मैन के नाम से पुकारते हैं. आलम यह है कि कोबरा मैन के पास बाड़मेर जिले के सैकड़ों किलोमीटर दूर लोग कोबरा पकड़ने के लिए दीपक को फोन करते हैं. 

दीपक दिन में कम से कम 6 से 7 सांपों का रेस्क्यू कर लेते हैं. सबसे खास बात यह है कि कभी अगर कोबरा कुए के अंदर 100 फीट नीचे भी दिख जाए तो उसको बचाने के लिए वह खुद कुए के अंदर चले जाते हैं. दीपक ने बताया कि बचपन में लोगों को सांप मारते देख दया आ जाती थी. जिसके बाद दीपक ने सांपों का जीवन बचाने के लिए मुहिम छेड़ दी. 

दीपक शहर सहित आसपास के गांवों में जाकर भी सांपों का रेस्क्यू करते है तथा उन्हें सुरक्षित स्थानों पर ले जाकर छोड़ते है. अब तो उन्हें वन विभाग का भी सहयोग मिलता है. सांप की जानकारी मिलने पर वन विभाग उसे पकड़ने के लिए दीपक को कॉल करता है. साढ़े छह साल पहले दीपक ने अपने मोहल्ले में लोगों को सांप मारते हुए देखा तो इन्होंने सांपों को बचाने की ठान ली.

इसके बाद उन्होंने उदयपुर में वन्य जीव संरक्षण को लेकर काम कर रहे चमनसिंह से सांप को पकड़ने की कला सीखी. इस दौरान दीपक ने सांपों का नजदीक से अध्ययन किया. इन्होंने बाड़मेर-जैसलमेर के मरुस्थलीय इलाके में पाई जाने वाली प्रजातियों को गहनता से समझा. साढ़े तीन साल में दीपक ने बाड़मेर जिले में करीब 2100 से अधिक सांपों को पकड़ कर उन्हें सुरक्षित जगहों पर छोड़ा है. इसके साथ ही वन विभाग के साथ भी कई रेस्क्यू में मदद की है.

बता दें कि बाड़मेर में सांप बहुतायत में है. अब बारिश के मौसम में सांप बाहर निकलने शुरू हों जाते है. सांप का नाम सुनते ही जहन में डर उभर आता है. कोबरा को छोड़कर अन्य सांपों को देखते ही अमूमन लोग उन्हें मार देते है. कोबरा को यहां के लोग देवता के रूप में मानते है.