50 साल बाद Jaisalmer में निकली ऐसी बारात, बुजुर्ग शर्माते हुए बोले- अपने दिन याद आ गए

जैसलमेर (Jaisalmer) जिले के बांधेवा पंचायत के दूल्हे महिपाल सिंह (Mahipal Singh) एवं परिजन कोरोना (Corona) के चलते सोशल डिस्टेंसिंग मेन्टेन करते हुए शादी करने के लिए रेगिस्तान के जहाज ऊंटों पर बारात लेकर दुल्हन लेने पहुंचे. 

50 साल बाद Jaisalmer में निकली ऐसी बारात, बुजुर्ग शर्माते हुए बोले- अपने दिन याद आ गए
बारात में लगभग 15 ऊंट और 30 बाराती थे.

Jaisalmer: कोरोना महामारी (Corona epidemic) के डर से लोगों ने अपनी जिंदगी में कई बदलाव लाए हैं. मास्क लगाना, पब्लिक प्लेस पर लोगों से उचित दूरी बनाए रखना जैसी कुछ बातें लोग अब अपने डेली लाइफ में फॉलो करते हैं.

यह भी पढ़ें- Corona महामारी से परेशान लोगों को हिम्मत दे रही इस Constable की कहानी, आपने पढ़ी?

वहीं, जैसलमेर (Jaisalmer) जिले के बांधेवा पंचायत के दूल्हे महिपाल सिंह (Mahipal Singh) एवं परिजन कोरोना (Corona) के चलते सोशल डिस्टेंसिंग मेन्टेन करते हुए शादी करने के लिए रेगिस्तान के जहाज ऊंटों पर बारात लेकर दुल्हन लेने पहुंचे. 

यह भी पढ़ें- Jaisalmer News: 'ज्यादा पढ़-लिख नहीं पाई तो क्या हुआ, बदलाव ज़रूर लाऊंगी'

50 years later such a barat came out in Jaisalmer elders said Memories came back

बुजुर्ग बोले- अपने दिन याद आ गए
परिजनों ने ऐसा तरीका निकाला, जो काफी हटकर था. इस शादी को देख कर पूरे क्षेत्र में चर्चा छा गई. बारात ग्राम पंचायत बांधेवा के केसुला पाना महेचो की ढाणी से कालजिरो भाटियो की ढाणी बाड़मेर जिले केसुबला गांव जो की लगभग सात किलोमीटर किलोमीटर दूरी पर स्थित है, वहां गई. बारात में लगभग 15 ऊंट और 30 बाराती थे. कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए 50 साल बाद ऊंटों पर निकली बारात को देखकर बुजुर्गों को अपनी शादी की यादें ताजा हो गईं.

Reporter- Shankar Dan