Barmer: 5 पाक विस्थापितों को मिली भारतीय नागरिकता, खुशी से खिल उठे चेहरे

भारतीय बनने वाले इन 5 लोगो की आंखें खुशी के अश्कों से भर आईं और बोले आज भारतीय मोहर मिल गई हैं और हम आजाद हो गए हैं.

Barmer: 5 पाक विस्थापितों को मिली भारतीय नागरिकता, खुशी से खिल उठे चेहरे
सरहदी बाड़मेर में जिला प्रशासन ने इनकी पेशानी पर शरणार्थी का तमगा हटाकर इन्हें भारतीय होने का गौरव प्रदान किया.

Barmer: बरसों पहले सरहद की कंटीली तार से उस पार से प्रताड़ित होकर हिंदुस्तान (Hindustan) की सरज़मी को अपना सब कुछ मानकर यहां बसने वाले 5 लोगों के लिए शुक्रवार का दिन सूरज नई रोशनी लेकर आया. 

यह भी पढ़ें- अपने ही 'बेटे का शव' लेने से मना कर रहे हैं परिजन, वजह जानकर फट जाएगा कलेजा

सरहदी बाड़मेर में जिला प्रशासन ने इनकी पेशानी पर शरणार्थी का तमगा हटाकर इन्हें भारतीय होने का गौरव प्रदान किया. भारतीय बनने वाले इन 5 लोगो की आंखें खुशी के अश्कों से भर आईं और बोले आज भारतीय मोहर मिल गई हैं और हम आजाद हो गए हैं.

यह भी पढ़ें- ACB की गिरफ्त में आया बड़ा शिकारी, आबकारी निरीक्षक को रिश्वत राशि के साथ दबोचा

बाड़मेर जिले में निवासरत 5 पाक विस्थापितों (Pak displaced) को गृह विभाग ने भारतीय नागरिकता (Indian citizenship) दी गई. शुक्रवार को जिला कलेक्टर कार्यालय में आयोजित शिविर के दौरान जिला कलक्टर लोकबंधु ने भारतीय मूल नागरिकता प्रमाण पत्र वितरित किये. पाक विस्थापित जो बरसो पहले भारत आ गए उनमें से 5 लोगों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई. इनमें 1 महिलाएं शामिल हैं. 

इन लोगों को दी गई नागरिकता
जिला कलक्टर ने जामुन बाई, लालू, दुर्जन सिंह, अनवर सिंह और जगदीश कुमार इन लोगो को नागरिकता दी तो इन लोगो की आंखें खुशी से छलक उठी. पाकिस्तान के उमरकोट से विस्थापित होकर भारत आये जगदीश कुमार बताते हैं कि पाकिस्तान में कुछ परिस्थितियों के कारण विस्थापित होकर भारत अपनी सरजमी भारत आना पड़ा. वहां पर नाबालिग लड़कियों को अगवा कर धर्म परिवर्तन सहित अलग-अलग तरीके से हिन्दुओं को प्रताड़ित होना पड़ रहा है और साथ ही उन्होंने भारत सरकार से थार एक्सप्रेस को पुनः शुरू करने की भी मांग की है ताकि पाक में प्रताड़ित हिन्दू भारत आकर सुकून से जीवन यापन कर सकें.

क्या कहना है जिला कलेक्टर का
बाड़मेर जिला कलेक्टर लोकबंधु ने बताया कि 5 पाक विस्थापित जो पाकिस्तान के उमरकोट से अलग-अलग में समय में भारत आकर रह रहे थे और इन्होंने नागरिकता के लिए आवेदन किया था, जो नियमानुसार गृह मंत्रालय को भेजा गया था और वहां से नागरिकता प्रमाण पत्र और अनुमति मिलने के बाद आज पाक विस्थापितों को भारतीय नागरिकता के प्रमाण पत्र वितरित किये हैं.

बरसों से अपनी मादरे जमीं से दूर हिंदुस्तान में आ बसे ये लोग अब तक शरणार्थियों को तरह रह रहे थे. अब तक मूलभूत सुविधाओं से दूर इन लोगों के लिए जिंदगी जहां दुश्कर थी लेकिन शुक्रवार के बाद यह सभी भारतीय बन गए और इन्हें भारतीय को मिलने वाले सभी हक इन्हें मिल गए हैं, जिनकी इन लोगों को बेहद खुशी है.

Reporter- Bhupesh Acharya