Jodhpur ACB की धोरीमन्ना में बड़ी कार्रवाई, 5 लाख की रिश्वत लेता सहायक अभियंता Trap

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो जोधपुर की स्पेशल टीम ने बाड़मेर जिले के धोरीमना पंचायत समिति में कार्रवाई करते हुए पंचायत समिति के जल ग्रहण विकास एवं भू संरक्षण सहायक अभियंता को 5 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. 

Jodhpur ACB की धोरीमन्ना में बड़ी कार्रवाई, 5 लाख की रिश्वत लेता सहायक अभियंता Trap
आरोपी सोहन लाल सुथार को रंगे हाथों पकड़ा.

Barmer : भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो जोधपुर की स्पेशल टीम ने बाड़मेर जिले के धोरीमना पंचायत समिति में कार्रवाई करते हुए पंचायत समिति के जल ग्रहण विकास एवं भू संरक्षण सहायक अभियंता को 5 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया है. जोधपुर एसीबी में परिवादी ने शिकायत दर्ज करवाई की वर्ष 16-17 में आई डब्ल्यू एमपी विकास कार्यों की विज्ञप्तियो में भाग लिया था और उसकी दो फर्म के नाम से अलग-अलग विकास कार्यों के कार्य आर्डर जारी होने के बाद भूमिगत टांका निर्माण विकास कार्य पूर्ण करवा दिए थे. 

यह भी पढ़ें : Rajasthan: मंत्रिमंडल फेरबदल और विस्तार में लागू हो सकता है यह सिद्धांत, होंगे बड़े बदलाव

विकास कार्यों के बिल भुगतान का 10% राशि सिक्योरिटी के लिए जमा रहती है और अब इस सिक्योरिटी राशि का भुगतान करने की एवज में जल ग्रहण विकास एवं भू संरक्षण सहायक अभियंता व सहायक अभियंता नरेगा द्वारा 10% राशि रिश्वत के रूप में मांग कर रहा है. जिस पर एसीबी की टीम (Jodhpur ACB) ने शिकायत का गोपनीय सत्यापन करवाने के बाद बुधवार को एसीबी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दुर्ग सिंह राजपुरोहित के नेतृत्व में टीम धोरीमन्ना पंचायत समिति पहुंची और 500000 रुपये की रिश्वत (Bribe) लेते हुए धोरीमन्ना पंचायत समिति के सहायक अभियंता सोहन लाल सुथार को राजकीय आवास से रंगे हाथों गिरफ्तार किया.

वहीं, मानाराम सहायक अभियंता नरेगा की गिरफ्तारी के लिए एसीबी की टीम धोरीमन्ना पुलिस के सहयोग से लगातार प्रयास कर रही है. प्रारंभिक पूछताछ में सामने आया कि दोनों ही आरोपियों ने परिवादी से पहले भी डरा धमकाकर 16 लाख रुपए रिश्वत के रूप में ले चुके हैं. एसीबी की टीम अब गिरफ्तार घूसखोर सहायक अभियंता सोहन लाल सुथार से पूछताछ कर रही है.

रिपोर्ट : भूपेश आचार्य

यह भी पढ़ें : Hanuman Beniwal ने की RPSC चेयरमैन और सदस्यों की आय की CBI जांच की मांग, जानें मामला