Rajasthan BJP नेताओं को JP Nadda ने लगाया 'एकता का वैक्सीन', दिया यह सख्त संदेश

जेपी नड्डा ने सतीश पूनिया और वसुंधरा राजे का हाथ पकड़कर एकजुटता दिखाई. मंच पर खड़े सभी नेताओं ने एक दूसरे का हाथ थाम कर पार्टी को राजस्थान में अजेय बनाने का संकल्प दोहराया. 

Rajasthan BJP नेताओं को JP Nadda ने लगाया 'एकता का वैक्सीन', दिया यह सख्त संदेश
बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अपने संबोधन में कहा कि राजस्थान में पहले भी कमल खिला है और आगे भी खिलेगा.

Jaipur: बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) मंगलवार को जयपुर (Jaipur) दौरे पर रहे. तकरीबन छह घंटे के दौरे में नड्डा ने पार्टी के कार्यकर्ता को री-चार्ज करने के जतन किये तो साथ ही प्रदेश कार्यसमिति की बैठक के मंच से नेताओं में एकजुटता का संदेश भी दिया. 

यह भी पढ़ें- गुटबाजी खत्म करने Rajasthan आए JP Nadda, क्या मान जाएंगी Vasundhara Raje?

पार्टी में अलग-अलग गुटों की चर्चा के बीच नड्डा ने सभी नेताओं के साथ हाथ मिलाकर एकजुटता का इज़हार किया. इतना ही नहीं, पार्टी में इस एकजुटता को दर्शाने के लिए नड्डा ने अपने पास खड़े प्रदेश प्रभारी महामंत्री अरुण सिंह (Arun Singh) को भी एक तरफ करके वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) को अपने साथ बुलाया, फिर पूनिया और वसुंधरा के हाथ पकड़ कर एक एकजुटता का इजहार किया.

यह भी पढ़ें- Rajasthan से बंगाल के वोटर्स को साधने को कोशिश, JP Nadda ने की मां काली की पूजा

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने प्रदेश कार्यसमिति की बैठक को संबोधित किया. इस दौरान नड्डा के भाषण की एक-एक शब्द पर कान लगाये बैठे कार्यकर्ता इस बात को सुनने का इंतजार कर रहे थे कि आखिर उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष पार्टी में एकजुटता के लिए कब मैसेज देते हैं? क्या वसुंधरा राजे और सतीश पूनिया (Satish Poonia) का नाम लिया जाता है? क्या दोनों से एकजुटता की अपील की जाती है? और क्या इस अपील पर दोनों नेताओं के चेहरों पर कोई असर दिखेगा या नहीं? 

राजस्थान में अजेय बनाने का दोहराया गया संकल्प
इंतजार कर रहे कार्यकर्ताओं को नड्डा के भाषण में तो कोई बड़ा संकेत हाथ नहीं लगा लेकिन जैसे ही नड्डा का भाषण खत्म हुआ और वह अपने कुर्सी पर पहुंचे तो राष्ट्रीय अध्यक्ष ने प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह को कुछ कहा. प्रदेश प्रभारी या अरुण सिंह भी राष्ट्रीय अध्यक्ष का इशारा पाते ही पूरा मामला समझ गए और उन्होंने वसुंधरा राजे को नड्डा के पास खड़े होने के लिए इशारा किया. इसके बाद जेपी नड्डा ने सतीश पूनिया और वसुंधरा राजे का हाथ पकड़कर एकजुटता दिखाई. मंच पर खड़े सभी नेताओं ने एक दूसरे का हाथ थाम कर पार्टी को राजस्थान में अजेय बनाने का संकल्प दोहराया. 

क्या बोले बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा 
एकजुटता के इजहार से पहले बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने अपने संबोधन में कहा कि राजस्थान में पहले भी कमल खिला है और आगे भी खिलेगा. उन्होंने कहा कि जनता में पार्टी की अच्छी छवि है और यह सब पार्टी के काडर के कारण संभव हो सका है.

पूनिया ने गिनाई पार्टी की खूबियां
बीजेपी के संगठन को मजबूत करने की बात प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने भी की. पूनिया ने मंच पर मौजूद सभी नेताओं की खासियत बताते हुए अपने सम्बोधन में उनका ज़िक्र किया तो पूर्व मुख्यमन्त्री वसुंधरा रेजी की सरकार के समय के काम भी याद किये. पूनिया ने कहा कि मौजूदा राज्य सरकार वसुमंधरा सरकार के समय की अच्छी योजनाओं को या तो रोक रही है या उनका नाम बदल कर उन्हें निष्क्रिय कर रही है. पूनिया ने कहा कि राजस्थान में एक बार बीजेपी और एक बार कांग्रेस की परिपाटी बंद होगी और अब हर बार सिर्फ बीजेपी ही आएगी. 

जेपी नड्डा ने गहलोत सरकार पर साधा निशाना
पार्टी में एकजुटता का मैसेज देने के साथ ही बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने प्रदेश की गहलोत सरकार पर निशाना भी साधा. नड्डा ने सरकार पर सीधे आरोप लगाते हुए कहा कि गहलोत सरकार सुशासन देने की कोशिश नहीं करती बल्कि कुराज कायम करने की कोशिश यहां दिख रही है. नड्डा ने कहा कि ऐसे में इस सरकार को चुनाव में नमस्कार करना है और बीजेपी को मजबूत करने का समय है. नड्डा ने कहा कि अब राजस्थान के लोग भी गहलोत सरकार से मुक्ति पाना चाहते हैं. 

बीजेपी अध्यक्ष ने बीजेपी के मंच पर पार्टी नेताओं के हाथ तो मिलवा दिए लेकिन क्या दिल में मुख्यमन्त्री बनने की आस लगाए बैठे नेताओं के दिलों में आए फासले इससे मिट पाएंगे? सवाल यह भी कि क्या नड्डा के इस दौरे से अब तक मद्धम रफ्तार से चल रहा विपक्ष भी जनहित के मुद्दों पर अपनी आवाज़ बुलन्द कर पाएगा? और सबसे बड़ा सवाल यह कि अभी तक सतीश पूनिया के नेतृत्व पर ज्यादा बात नहीं करने वाले नेता पूनिया को सर्वमान्य नेता स्वीकार करेंगे?