close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जयपुर: कलराज मिश्र होंगे राजस्थान नए राज्‍यपाल, मोदी सरकार में रहे थे मंत्री

कलराज मिश्र इससे पहले मोदी सरकार में 2017 तक सूक्ष्‍म, लघु और उद्यम मंत्री (एमएसएमई) रहे. वह तीन बार राज्‍यसभा के भी सदस्‍य रहे थे. 

जयपुर: कलराज मिश्र होंगे राजस्थान नए राज्‍यपाल, मोदी सरकार में रहे थे मंत्री
2017 में कलराज मिश्र ने मंत्री पद से इस्‍तीफा दे दिया था.

जयपुर: मोदी सरकार में मंत्री रहे कलराज मिश्र अब राजस्थान के नए राज्‍यपाल होंगे. बता दें कि कलराज मिश्र हाल ही में हिमाचल प्रदेश के गवर्नर नियुक्त किए गए थे. बता दें कि कलराज मिश्र इससे पहले मोदी सरकार में 2017 तक सूक्ष्‍म, लघु और उद्यम मंत्री (एमएसएमई) रहे. वह तीन बार राज्‍यसभा के भी सदस्‍य रहे. बता दें कि राजस्थान में वर्तमान राज्यपाल कल्याण सिंह का कार्यकाल सोमवार को खत्म हो रहा है. वहीं कलराज मिश्र ने 2019 के चुनाव से पहले उन्‍होंने इस बार का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान करते हुए कहा था कि पार्टी ने कई अन्‍य अहम जिम्‍मेदारियां उनको दी हैं, लिहाजा उनको पूरा करने के लिए वह चुनाव नहीं लड़ेंगे.

उल्‍लेखनीय है कि 2014 के बाद 75 साल से अधिक आयु के कई वरिष्‍ठ नेता सक्रिय राजनीति से रिटायर हो गए थे. इसी आधार पर 2017 में कलराज मिश्र ने मंत्री पद से इस्‍तीफा दे दिया था. आधिकारिक तौर पर कलराज मिश्र ने लोकसभा चुनाव (Lok sabha elections 2019) नहीं लड़ने का ऐलान किया था. हालांकि उस समय मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री रह चुके कलराज मिश्र को हरियाणा का चुनाव प्रभारी बनाया गया था.

यूपी को ही तरजीह 
वर्तमान राज्यपाल सिंह उत्तरप्रदेश और देश की राजनीति का बड़ा चेहरा रहे हैं, उनके बाद राजस्थान के राज्यपाल की कमान उत्तरप्रदेश से ही जुड़े कलराज मिश्र को सौंपी गई है. कलराज मिश्र का हिमाचल प्रदेश का गर्वर बनने से पहले लंबा राजनीतिक कैरियर रहा है. कलराज मिश्र बीजेपी के बड़े नेता माने जाते हैं. मोदी सरकार की पहली पारी में उन्हें सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार सौंपा गया था. वे उत्तर प्रदेश के देवरिया लोकसभा सीट से चुनाव जीते थे. हालांकि बाद में कलराज मिश्र से मंत्री पद ले लिया गया था.

लंबा अनुभव 
कलराज मिश्र ने इस साल जब लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ा था तभी से अंदाजा लगाया जा रहा था कि पार्टी उन्हें कुछ अलग जिम्मेदारी दे सकती है. नई जिम्मेदारी के तौर पर पहले हिमाचल प्रदेश और अब राजस्थान का गर्वनर बनाया गया है. नया पद मिलने के बाद कलराज मिश्र को लगातार बधाइयां मिल रही है. कलराज मिश्र का राजनीतिक करियर बहुत रहा है. 1977 में वह जनता पार्टी के चुनाव संयोजक बने. 1978 में वह राज्यसभा के सदस्य बन गए. 1980 में बीजेपी की स्थापना के बाद वे भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए गए. कलराज मिश्र राम मंदिर आंदोलन से जुड़े रहे हैं. वे 1991, 1993, 1995 और 2000 में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष रहे हैं. बीजेपी में उनका कद बढ़ता गया. 2003 में वे यूपी, और 2004 में राजस्थान और दिल्ली के प्रभारी बने. 2010 में बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष घोषित किए गए. 2012 के विधानसभा चुनाव में विधायक चुने गए. 2014 में देवरिया लोकसभा सीट से सांसद बने. 2019 में हिमाचल प्रदेश का गर्वनर नियुक्त किया गया. 

अन्य राज्यों में भी नियुक्ति 
भगत सिंह कोश्यारी को महाराष्ट्र का राज्यपाल बनाया गया है. वहीं बंडारू दत्तात्रेय को हिमाचल का नया राज्यपाल बनाया गया है. आरिफ मोहम्मद खान को केरल का राज्यपाल बनाया गया है और तमिलसाईं सौदरराजन को तेलंगाना के राज्यपाल की जिम्मेदारी दी गई है. सौंदरराजन इससे पहले तमिलनाडु भाजपा की प्रदेश अध्यक्ष थीं.