Rajsamand विधानसभा उपचुनाव: नए चेहरे की तलाश, BJP-Congress में इन नामों की चर्चा तेज

राजसमंद सीट (Rajsamand) को लेकर बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) में संभावित दावेदारों ने तैयार शुरू कर दी है.

Rajsamand विधानसभा उपचुनाव: नए चेहरे की तलाश, BJP-Congress में इन नामों की चर्चा तेज
दलों ने जिताऊ उम्मीदवार की तलाश शुरू कर दी है.

लक्ष्मण सिंह, राजसमंद: विधायक किरण माहेश्वरी (Kiran Maheshwari) के निधन के बाद में राजसमंद सीट (Rajsamand) को लेकर बीजेपी (BJP) और कांग्रेस (Congress) में संभावित दावेदारों ने तैयार शुरू कर दी है. दोनों दलों ने जिताऊ उम्मीदवार की तलाश शुरू कर दी है. दोनों ही दलों में विधायक के दावेदारों की संख्या में बीस से ज्यादा है, जिनमें ज्यादातर स्थानीय हैं, तो कुछ बाहरी नेताओं के नाम भी चर्चा में हैं.

यह भी पढ़ें- राजस्थान उपचुनाव: मंडावा और खींवसर सीट पर मतदान से पहले थमा चुनाव प्रचार

राजसमन्द में दिवंगत किरण माहेश्वरी की पुत्री दीप्ति माहेश्वरी (Deepti Maheshwari) के अलावा पूर्व चैयरमेन अशोक रांका, महेन्द्र कोठारी, दिनेश बड़ाला, गणेश पालीवाल, पूर्व सासंद स्व. हरिओमसिंह राठौड़ के पुत्र कर्मवीर सिंह राठौड़, मानसिंह बारहठ, भाजयुमो जिलाध्यक्ष जगदीश पालीवाल के साथ प्रमोद सामर का नाम भी चर्चा में है. बीजेपी में किरण के निधन के बाद स्थानीय स्तर पर एक बार बीजेपी एकजुट हो गई है, मगर अब फिर कुछ पदाधिकारी दिवंगत किरण माहेश्वरी के परिवार के साथ जुड़े हुए हैं. इससे फिर बीजेपी की गुटबाजी फिर देखने को मिल रही है.

यह भी पढ़ें- राजस्थान: हाइब्रिड फॉर्मुले पर पूनिया ने कहा- अपने बेटे को महापौर बनाना चाहते हैं CM

कांग्रेस में चर्चा में इन लोगों के नाम
कांग्रेस की बात की जाए तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) के पुत्र वैभव गहलोत (Vaibhav Gehlot) के साथ पीसीसी सदस्य हरिसिंह राठौड़, पूर्व जिला प्रमुख नारायणसिंह भाटी, महेशप्रताप सिंह लखावत, पूर्व सभापति आशा पालीवाल, दिनेश बाबेल, ब्लॉक अध्यक्ष सुन्दरलाल कुमावत, भगवतसिंह गुर्जर के नाम चर्चा में है. कांग्रेस में मुख्यमंत्री के पुत्र वैभव गहलोत का नाम आने के बाद स्थानीय नेताओं में आक्रोश भी देखने को मिल रहा है. इसके पीछे विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी द्वारा टिकट दिलाने की चर्चा है. कांग्रेस में भी आपसी गुटबाजी के चलते मजबूत प्रत्याशी को लेकर असमंजस की स्थिति है.

चार चुनावों से लगातार रहा बीजेपी का कब्जा 
राजसमन्द विधानसभा सीट काफी महत्व रखती है. यहां बीते 17 सालों से यानि चार चुनावों से लगातार बीजेपी का कब्जा रहा. बीते डेढ़ दशक में प्रदेश और खासकर मेवाड़ में बड़े नेता के रूप में उभरी स्व. किरण माहेश्वरी यहां से लगातार तीसरी बार विधायक थी. ऐसे में किरण की पुत्री दीप्ति का नाम काफी चर्चा है, जिसमें लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला की नजदीकी होने से प्रबल दावेदार माना जा रहा है. हालांकि स्थानीय स्तर के नेताओं में इसका विरोध भी है.

कांग्रेस में प्रबल दावेदार
नारायणसिंह भाटी, हरिसिंह राठौड़ और विधायक पुत्र वैभव गहलोत

बीजेपी के प्रबल दावेदार
दीप्ति माहेश्वरी, भाजयुमो जिलाध्यक्ष जगदीश पालीवाल, अशोक रांका