close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए चिकित्सा विभाग ने तैयार किया एक्शन प्लान

जिला कलेक्टर ने मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए कार्य योजना की प्रभावी क्रियान्वयन हेतु कोर कमेटी का गठन किया है. 

कोटा: मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए चिकित्सा विभाग ने तैयार किया एक्शन प्लान
प्रतीकात्मक तस्वीर

कोटा/ मुकेश सोनी: जिले में मौसमी बीमारियों के प्रभावी नियंत्रण एवं रोकथाम के लिए जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में जिले का एक्शन प्लान तैयार किया गया है. इसके तहत चिकित्सा विभाग के साथ साथ करीब 13 विभागों की जिम्मेदारियां तय की गई हैं. सभी विभागों को मौसमी बीमारियों के लिए जिला एवं खण्ड स्तर पर नोडल अधिकारी नियुक्त करने, बीमारियों से बचाव-उपचार एवं रोकथाम के संबध में जागरूकता कार्यक्रम में भागीदार बनने की बात कही गई है.

नियमों की पालना नहीं होने पर होगी कार्रवाई
सीएमएचओ डॉ. भूपेन्द्र सिंह तंवर ने बताया कि प्लान के तहत मौसमी बीमारियों के लिए सहायक कारणों की पहचान कर अभी से पूरी तैयारी के साथ समयबद्ध रूप से उनका निराकरण करना सुनिशिचत किया जाएगा. बरसात से पूर्व सभी नालों की सफाई एवं पानी भराव वाले स्थानों पर क्रूड ऑयल एवं गम्बूशिया मछली डलवाना, वार्डवार कार्यक्रम बनाकर घरों में लगे हुए कूलरों, टंकियों की सफाई एवं प्रति सप्ताह सूखा दिवस मनाने के लिए आम लोगों को प्रेरित करना आदि शामिल है. वहीं नियमों की पालना नहीं करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए गए हैं. 

कोर कमेटी का गठन
जिला कलेक्टर ने मौसमी बीमारियों की रोकथाम के लिए कार्य योजना की प्रभावी क्रियान्वयन हेतु कोर कमेटी का गठन किया है. कमेटी में चिकित्सा, शिक्षा, पशुपालन, पंचायतीराज, स्वायत्त शासन, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, चिकित्सा शिक्षा विभाग, नर्सिंग कांउसिल, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, आयुर्वेद विभाग, ईएमआई, राजस्थान रोडवेज एवं रेल्वे व सेना विभाग शामिल है. 

इन सभी विभागों की अलग अलग जिम्मेदारी तय की गई हैं. पिछले कुछ सालों में जिले में मौसमी बीमारियों का प्रकोप देखने को मिला था. इस बार समय रहते जिला प्रशासन ने सभी विभागों के सहयोग से मौसमी बीमारियों से जंग लड़ने का एक्शन प्लान तैयार किया है. अब देखना होगा कि जिला प्रशासन मौसमी बीमारियों की रोकथाम में कितना सफल हो पाता है.