close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: बारिश के बाद बदली शाहाबाद क्षेत्र की तस्वीर, सैर के लिए उमड़े पयर्टक

बारां जिले के एनएच- 27 फोरलेन हाईवे पर स्थित शाहाबाद क्षेत्र में पर्यटक स्थलों की रौनक बढ़ गई है. 

कोटा: बारिश के बाद बदली शाहाबाद क्षेत्र की तस्वीर, सैर के लिए उमड़े पयर्टक
प्रकृति के गोद में बसे शाहाबाद की बात ही निराली है.

राम मेहता/बारां: प्रदेश के बारां जिलें का शाहाबाद क्षेत्र का नजारा हिमाचल और कश्मीर से कम नहीं है. शाहाबाद क्षेत्र के पर्यटक स्थल, घाटी ओर आकर्षित कर रहा कुंडाखोह का झरना और छाई हरियाली लोगों को आकर्षित कर रहें है. बारां जिले में पिछले दिनों से जारी बारिश के चलते नदी नालों में उफान आ गया तो कई गांवों का मुख्य कस्बों से सम्पर्क कट गया. 

वहीं मध्यप्रदेश की सीमा से सटे बारां जिले के एनएच- 27 फोरलेन हाईवे पर स्थित शाहाबाद क्षेत्र में पर्यटक स्थलों की रौनक बढ़ गई है. यहां कंडाखोह का झरना तेज रफ्तार से बहने लगा है. वहीं शाहाबाद की घाटी लोगों को हिमाचल, कश्मीर में होने जैसा एहसास करती है. शाहाबाद कस्बे के नजारे प्रकृति के गोद में बसे शाहाबाद की बात ही निराली है.  शाहाबाद के किले में छाई हरियाली तो हाईवे एनएच- 27 से गुजरने राहगीरों तक को आकर्षित कर रही है. 

शाहाबाद घाटी में छाई हरियाली से सैर के लिए पहुंचने वाले पयर्टकों की भारी सख्यां उमड़ रही है. वहीं एनीकटों के झरनों पर मौसम का आनंद लेने वालों की भी जमकर भीड़ उमड़ रही है. बारिश होते ही शाहाबाद के दर्शनीय स्थलों पर लोग पिकनिक मनाते एवं घूमते हुए दिखाई दिए. नेशनल हाईवे 27 पर एक दर्जन से भी अधिक कारें, दर्जनों मोटरसाइकिल खड़ी नजर आती हैं. 

वहीं हाईवे से मात्र 50 मीटर की दूरी पर से किले के मनमोहक दृश्य को कैमरे में कैद करते नजर आए. बारिश अच्छी हो जाने से हाईवे पर कई वाहन चालक एवं यात्री इस पर्यावरण सौंदर्य का फोटो सेल्फी आदि ले रहे हैं. जिला कलेक्टर इन्द्र सिंह राव का कहना कि बारां जिलें में पर्यटन की भारी संभावना है जिसमें शाहाबाद का ओर शेरगढ का किला लोगो को आकर्षित करता रहता है और पर्यटन के विकास और पुरा सम्पदा के सरक्षंण को लेकर प्रयास किए जा रहें है वहीं सरकार द्धारा 2 करोड़ की राशि भी स्वीकृत की गई है. अब देखने वाली बात ये है कि हरियाली, जंगल और पुरा सम्पदा से भरे शाहाबाद का विकास और सरंक्षण कब तक हो पाता है.