close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: CMHO पर मानसिक प्रताड़ना का आरोप, कर्मचारियों ने खोला मोर्चा

सीएमएचओ ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि कर्मचारी काम मे लापरवाही बरत रहा था इस कारण उसको यहां से हटाया गया है. कर्मचारियों का दल दबाब बनाने यहां आया था. 

कोटा: CMHO पर मानसिक प्रताड़ना का आरोप, कर्मचारियों ने खोला मोर्चा

कोटा/ मुकेश सोनी: सीएमएचओ डॉ. भूपेंद्र तंवर इन दिनों सुर्खियों में हैं. सुर्खियों के कारण सीएमएचओ की मुसीबत कम होने का नाम नहीं ले रही. पहले एक डॉक्टर ने रुपये मांगने का आरोप लगा था. अब विभाग के ही कर्मचारी ने सीएमएचओ पर मानसिक रूप से प्रताड़ित करने का आरोप जड़ा है. इसके बाद राज्य मंत्रालयिक कर्मचारियों ने सीएमएचओ के खिलाफ मोर्चा खोला है. 

पीड़ित कर्मचारी के पक्ष में राज्य मंत्रालय के कर्मचारी महासंघ ने सीएचएमओ के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए डॉ. भूपेंद्र तंवर का घेराव किया है. कर्मचारी महासंघ के जिलाध्यक्ष रामजी लाल मीणा की अगुवाई में नेताओं ने सीएमएचओ को जमकर खरी खोटी सुनाई और डेपुटेशन निरस्त कर कर्मचारियों से सही व्यवहार करने की मांग की. इस दौरान कार्यालय में काफी देर तक गमहा गहमी का माहौल रहा.

बनाया जा रहा दबाव-सीएमएचओ
दरअसल, सीएमएचओ द्वारा कुछ समय पहले 74 कर्मचारियों का डेप्युटेशन निरस्त किया गया था. कर्मचारियों का कहना है कि सीएमएचओ ने अपने चहेते 22 कर्मचारियों का डेप्युटेशन निरस्त नहीं किया. वहीं सीएमएचओ द्वारा कर्मचारियों से सही व्यवहार नहीं किया जाता. इधर सीएमएचओ ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि कर्मचारी काम मे लापरवाही बरत रहा था इस कारण उसको यहां से हटाया गया है. कर्मचारियों का दल दबाब बनाने यहां आया था. 

विवादों से नाता रहा है सीएमएचओ का
सीएमएचओ डॉ. भूपेंद्र सिंह तंवर का विवादों से पुराना नाता रहा है. कुछ समय पहले आशा सहयोगिनी की जिला स्तरीय मीटिंग में रात के समय होटल में वीडियोग्राफी करवाने के मामले में आशाओं ने उच्चाधिकारियों को सीएमएचओ डॉ. भूपेंद्र सिंह तंवर की लिखित शिकायत की थी. वहीं जिला रामपुरा अस्पताल में दखल देने के मामले में जिला रामपुरा अस्पताल अधीक्षक से भी बहस हो चुकी है.

सीएमएचओ भूपेंद्र सिंह तंवर की कार्यशैली को लेकर कर्मचारियों में भी असंतोष रहा है. एक बार तो कर्मचारियों ने सीएमएचओ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया था लेकिन आपसी समझाइस पर मामला सुलझाया गया था. अब राज्य मंत्रालयिक कर्मचारी महासंघ द्वारा मोर्चा खोलने से सीएमएचओ की मुशिकलें बढ़ गई हैं.