कोटा: कलेक्टर और एसपी की पहल, अब छात्र रहेंगे टेंशन फ्री

कोचिंग छात्रों को मोटिवेट करने ओर छात्रों को डिप्रेशन से बाहर निकालने के लिए कोटा के कलेक्टर और एसपी ने एक अनोखा तरीका निकालते हुए कॉफ़ी विद कलेक्टर कार्यक्रम शुरू किया है.

कोटा: कलेक्टर और एसपी की पहल, अब छात्र रहेंगे टेंशन फ्री
जिला कलक्टर के मुताबिक कार्यक्रम का मकसद विद्यार्थियों को अपनापन महसूस कराना है.

कोटा: जिले को शैक्षणिक नगरी के तौर पर पूरे देश में जाना जाता है. लेकिन बीते कई सालों में कोटा से लगातार कोचिंग छात्रों के सुसाइड के मामले सामने आने से कहीं न कहीं जिले की पहचान धूमिल हुई है. ऐसे में कोचिंग छात्रों को मोटिवेट करने ओर छात्रों को डिप्रेशन से बाहर निकालने के लिए कोटा के कलेक्टर और एसपी ने एक अनोखा तरीका निकालते हुए कॉफ़ी विद कलेक्टर कार्यक्रम शुरू किया है.

जिले में छात्रों के सुसाइड के मामले जब भी सामने आए तो सामने आया कोचिंग छात्रों के तनाव का मामला. छात्रों पर पढ़ाई का तनाव होता है और छात्र इसी तनाव के चलते मौत को गले लगा लेते हैं. इसी समस्या के समाधान के लिए कोटा कलेक्टर ने कोटा के छात्रों से सीधा संवाद करने की पहल की ओर कोटा के तकरीबन हर कोचिंग के कुछ छात्रों को बुलाया गया. साथ ही छात्रों को संवाद के जरिए तनाव से दूर रखने के इस कार्यक्रम को नाम दिया गया कॉफ़ी विद कलेक्टर कार्यक्रम.

कॉफ़ी विद कलेक्टर कार्यक्रम का आयोजन कलेक्टर ओम कसेरा के निवास पर किया गया था. जहां पर कोटा एसपी दीपक भार्गव भी मौजूद रहे. इस कार्यक्रम में कोटा कलेक्टर ओर एसपी ने कोचिंग छात्रों के साथ सुनहरे पल बिताए. साथ ही छात्रों को जिंदगी जीने और सफलता हासिल करने के गुर सिखाए. कार्यक्रम में एक पार्टी जैसा माहौल तैयार किया गया. यहां कोचिंग छात्रों ने गाने, डांस, मिमिक्री, कॉमेडी और कई तरह के अपने हुनर को कोटा एसपी और कोटा कलेक्टर के सामने पेश किया. इस दौरान छात्रों ने अपने जीवन में आये उतार चढावों के बारे में अपनी बात रखी.

जिला कलक्टर के मुताबिक कार्यक्रम का मकसद विद्यार्थियों को अपनापन महसूस कराना है. ताकी बच्चे तनावमुक्त होकर पढ़ाई कर सकें. इस दौरान लगभग 4 घंटे तक चले कार्यक्रम में बच्चों ने खुलकर अपनी बात कही और अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन भी किया. छात्रों ने इस पूरे आयोजन को बेहद जरूरी बताया. कोचिंग छात्र इस प्रोग्राम का हिस्सा बन कर बेहद खुश नजर आए. अब उम्मीद यही है कि ये पहल रंग लाती हुई नजर आए और शिक्षा नगरी के छात्र तनाव मुक्त हो.