close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: चिकित्सा विभाग के सर्वे के बाद भी नहीं कम हो रहे डेंगू के मामले

शहर में मौसमी बीमारियों पर लगाम कसने के लिए सीएमएचओ डॉ. बीएस तंवर को एक बार फिर मैदान में उतरना पड़ा। डॉ तंवर ने बताया कि शहर में मौसमी बीमारियों को लेकर जिला स्तर पर पांच टीमें गठित की. 

कोटा: चिकित्सा विभाग के सर्वे के बाद भी नहीं कम हो रहे डेंगू के मामले

कोटा: शहर में डेंगू का असर कम नहीं हो रहा है. रोजाना बड़ी संख्या में रोगी सामने आ रहे हैं. गुरुवार को भी डेंगू के 27 रोगी सामने आए हैं जबकि 1 स्क्रब टायफस का रोगी मिला है. सबसे चोकाने वाली बात यह है कि इन दिनों चिकित्सा विभाग की टीमें भी घर घर सर्वे कर रही हैं. बावजूद नए रोगी मिल रहे हैं. 

चिकित्सा विभाग के अनुसार भीमगंजमंडी 5, डीसीएम- दादाबाड़ी 4- 4, चन्द्रघंटा, रंगबाड़ी, गोविंद नगर 2-2, विज्ञान नगर, रायपुरा, छावनी, बोरखेड़ा, केशवपुरा, सकतपुरा, कैथून, सुल्तानपुर में 1-1 डेंगू पॉजिटिव मरीज मिला है जबकि दीगोद क्षेत्र के पोलायकलां से एक स्क्रब टायफस मरीज मिला है.

शहर में मौसमी बीमारियों पर लगाम कसने के लिए सीएमएचओ डॉ. बीएस तंवर को एक बार फिर मैदान में उतरना पड़ा। डॉ तंवर ने बताया कि शहर में मौसमी बीमारियों को लेकर जिला स्तर पर पांच टीमें गठित की. उन्होंने अलग-अलग जगहों पर जाकर एंटी लारवा सर्वे एक्टिविटी एक्टिविटी को चैक किया. सीएमएचओ ने खुद नयागांव महावीर नगर नगर, अनंतपुरा, तलवंडी, केशवपुरा, क्षेत्रों का दौरा किया. 

तलवंडी क्षेत्र में सबसे ज्यादा 9 चालान काटे गए. उन्होंने बताया कि शहर में डेंगू फैलने का सबसे बड़ा कारण देखने को मिला है कि लोगों ने घरों के सामने जो टंकी रखी है उन्हीं में लार्वा मिल रहा है. उसी में मच्छर पनप रहे हैं और लोग डेंगू का शिकार हो का शिकार हो रहे है. इसके चलते शहर में डेंगू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है.