close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: मुसलाधार बारिश से सरकारी स्कूल हुए बेहाल, कमरों में घुसा पानी

देवली अरब के उच्च माध्यमिक स्कूल परिसर में दो मिनट से ज़्यादा खड़ा रह पाना मुश्किल है. स्कूल भवन में जबर्दस्त गंदगी और बदबू का फैली हुई है.

कोटा: मुसलाधार बारिश से सरकारी स्कूल हुए बेहाल, कमरों में घुसा पानी
बच्चों की पढ़ाई पूरी तरह बंद हो चुकी है.

कोटा: प्रदेश के कोटा के देवली अरब इलाके का सरकारी स्कूल बारिश और सीवर का पानी भर जाने के वजह से बुरे हाल में है. स्कूल के कमरे और परिसर गंदगी और बदबू से पटा पड़ा है और बच्चों की पढ़ाई पूरी तरह चौपट हो गई है. देवली अरब के उच्च माध्यमिक स्कूल परिसर में दो मिनट से ज़्यादा खड़ा रह पाना मुश्किल है. स्कूल भवन में जबर्दस्त गंदगी और बदबू का फैली हुई है. ऐसे में बच्चों की पढ़ाई पूरी तरह बंद हो चुकी है. 

स्कूल की सफ़ाई होने में कितना वक़्त लगेगा ये कह पाना मुश्किल है. गंदगी का ढेर देखकर सफ़ाई कर्मचारी भी इसे साफ करने से कतरा रहे है. स्कूल के पीछे से गुजरने वाले नाले में सांप और मगरमच्छ जैसे जीवों के आने का ख़तरा भी हमेशा बना रहता है. स्कूल के कमरों और कार्यालय में कई फ़ुट तक पानी भर जाने से फर्निचर और स्कूल के कागजात को भी नुकसान हुआ हैं. 

बता दें कि राजस्थान में हो रही बरसात के कारण पार्वती, परवन नदियों अपने उफान पर हैं. वहीं इन नदियों के उफान पर आने से जिले के कई मार्ग बाधित हो गए हैं. साथ ही बाधित मार्गों पर यातायात बंद हो गई है और गांवों का जिला और उपखण्ड मुख्यालयों से संपर्क कट गया है. 

वहीं मांगरोल से रामगढ़ के मध्य स्थित पार्वती नदी भी अपने उफान पर आ गया है, जिसके कारण पिछलें पांच दिनों से पुलिया पर पांच फिट से अधिक पानी चल रहा है. वहीं इधर छबड़ा क्षेत्र में पार्वती नदी में उफान चलने के कारण मध्यप्रदेश को जोड़ने रास्तें बंद है. नदी में उफान के कारण मध्यप्रदेश के फतेहपुर को जोड़ने वाली पुलिया पर पानी आ गया है जिसके कारण रास्ता बंद है.

साथ ही बारां से नाहरगढ़ के रास्तें में पड़ने वाला पार्वती नदी की देंगनी की पुलिया पर पानी होने के कारण रास्ता बंद है. छीपाबडौद से इकलेरा रोड़ को जोड़ने वाली परवन नदी की पुलिया पर पानी होने के कारण रास्ता बंद है़. जबकि अटरू के पास पार्वती नदी के दूसरें तरफ बनें एक दर्जन गांव का संपर्क कटा हुआ है और पुलिया पर लोग जान जोखिम में डालकर नदी पार कर रहे हैं.