नजदीक आया दीपावली का त्योहार, मिट्टी को सुंदर रूप देकर दीये और बर्तन बना रहे कुंभकार
X

नजदीक आया दीपावली का त्योहार, मिट्टी को सुंदर रूप देकर दीये और बर्तन बना रहे कुंभकार

वर्तमान में कार्य करने वाले कुंभकार कई परेशानियों के साथ ही सरकार द्वारा भी मदद नहीं करने की बात कहते हैं.

नजदीक आया दीपावली का त्योहार, मिट्टी को सुंदर रूप देकर दीये और बर्तन बना रहे कुंभकार

Baran: जिले में दीपावली पर्व (Dipawali festival) की नजदीकता के चलते शहर के लोग दीपोत्सव की तैयारियों में जुटे हैं. जहां एक और लोग घरों में दीपोत्सव के स्वागत के लिए साफ-सफाई और रंगाई-पुताई जोरों पर है.

वहीं, ग्रामीण क्षेत्र में भी घरों में लिपाई-पुताई का दौर जारी है. दीपोत्सव पर्व पर बिक्री के लिए खास प्रयोग में लिए जाने वाले मिट्टी के दीपक, कलश, करवे के निर्माण में कुंभकार जुटे हुए हैं.

यह भी पढ़ें- Baran: मशक्कत के बाद किसानों को मिल रहे DAP खाद के 2 कट्टे, सुबह से लग जाती है लाइन

 

एक जमाना था, जब दीपावली से पूर्व शहर में कुंभकार अपने पारंपरिक व्यवसाय को बहुतायत में किया करते थे. तब सैंकड़ों की तादाद में कुंभकार अपने पारंपरिक कार्य से जुड़े हुए थे. लेकिन अब धीरे-धीरे मिट्टी के पात्रों की मांग घटने के कारण शहर में महज 2 दर्जन से अधिक ही कुंभकार ही अपने पारंपरिक व्यवसाय से जुड़े हुए हैं.

यह भी पढ़ें- सांगोद विधायक के बिगड़े बोल, कहा- प्रमोद जैन देवता पुरुष, लेकिन भाया बदमाश

 

उस समय मिट्टी के पात्र बनाने के लिए हाथ से चलाई जाने वाली चाक को काम में लिया जाता था. बदलते परिवेश में अब बिजली की चाक चलने लगी है. हालांकि वर्तमान में कार्य करने वाले कुंभकार कई परेशानियों के साथ ही सरकार द्वारा भी मदद नहीं करने की बात कहते हैं.

कुंभकारों का छलका दर्द
लंका कॉलोनी क्षेत्र निवासी कुंभकार विष्णु प्रजापति व अन्य कुंभकारों ने बताया कि लोगों की मिट्टी के पात्रों की ओर घटती रुचि के कारण व्यवसाय में काफी कमी आई है. वर्तमान में मिट्टी लाने में भी बड़ी परेशानी आती है. वहीं, सरकार की ओर से भी कोई योजना के माध्यम से राहत प्रदान नहीं की जाती है.

मिट्टी से बने दीपक थोक में ये लोग 500 रुपये प्रति हजार बेचते हैं. वहीं, कलश की बिक्री भी 10 रुपये प्रति कलश के अनुसार की जाती है. बाजार में खुदरा विक्रेता 12 रुपये दर्जन मिट्टी के दीपक तो 20 रुपये में एक कलश बेचते हैं.

यहां बारां शहर में निर्मित वाले दीपक कलशों को अंता और इटावा तक के व्यापारी खरीद करने आते हैं. कुंभकारों ने घरों में ही छोटी भट्टियां लगा रखी हैं, जिन पर आग में तपाक मिट्टी के पात्रों को तैयार कर रोगन से सुन्दर और आकर्षक रूप दिया जाता है.

Reporter- RAM MEHTA

 

Trending news