तेजी से बढ़ रहा है हथकढ़ शराब का कारोबार, सामने आई प्रशासन की लापरवाही

राजस्थान के बारां जिले के आदिवासी क्षेत्र (tribal area) में हथकढ़ शराब (handcuffed wine) का कारोबार बैखोप पनप रहा है. 

तेजी से बढ़ रहा है हथकढ़ शराब का कारोबार, सामने आई प्रशासन की लापरवाही
प्रतीकात्मक तस्वीर

Baran: राजस्थान के बारां जिले के आदिवासी क्षेत्र (tribal area) में हथकढ़ शराब (handcuffed wine) का कारोबार बैखोप पनप रहा है. कई गांवों में जानलेवा हथकढ़ शराब की भट्टियां जल रही है. बारां के आदिवासी क्षेत्र में कच्ची शराब का कारोबार फल-फूल रहा है. क्षेत्र में अवैध कच्ची शराब की तमाम भट्टियां धधक रहीं हैं, लेकिन आबकारी विभाग की ओर से कोई कार्रवाई इन कच्ची शराब कारोबारियों के खिलाफ नहीं की जाती है.

यह भी पढ़ें-प्रशासनिक सर्जरी, Gehlot सरकार ने बदले 18 IAS और 39 IPS

आबकारी और पुलिस यदा-कदा अभियान चलाकर अवैध धंधे में लिप्त कारोबारियों पर कार्यवाही कर देती है, लेकिन प्रभावी ओर स्थाई कार्रवाई नहीं होने की हथकढ़ शराब का कारोबार धडल्ले से चल रहा है. अवैध कच्ची शराब का सेवन करने से लोगों की मौतें हो जाती लेकिन इसकी जानकारी प्रशासन तक को नहीं लग पाती है.

यह भी पढ़ें-भजनलाल है REET पेपर लीक का मास्टरमाइंड? 40 लाख में की थी डील

बारां जिले में लंबे समय से अवैध कच्ची शराब का धंधा तेजी से चल रहा है. इस अवैध कारोबार के लिए दोषी प्रशासन के साथ-साथ आबकारी विभाग और पुलिस भी हैं. इस धंधे को बंद करने में कोई दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं और शाहाबाद तहसील क्षेत्र के राजपुर कस्बे के वडारा भील बस्ती, आनासागर और कस्बाथाना क्षेत्र सहित कई दर्जन गांवों में अवैध शराब का धंधा तेजी से फलफूल रहा है. खास बात यह है कि इस धंधे के कारोबारी कच्ची शराब में ऐसा कोई कैमिकल का मिश्रण करते हैं जिससे शराब काफी नशीली हो जाती है, जिस कारण कभी-कभी इसे सेवन करने वालों की मौत भी हो जाती है.

Report-Ram Mehta