बारां: अब Corona से मिलेगी 'निजात', भारी सुरक्षा के बीच पहुंची Vaccine

उन्होंने बताया कि प्रथम चरण के लिए बारां जिले को कोरोना वैक्सीन कोवीशील्ड की 9180 डोज मिली है. इसमें 16 जनवरी को लांचिंग के दिन बारां जिला अस्पताल, सीएचसी छबड़ा, सीएचसी केलवाड़ा में होगा.

बारां: अब Corona से मिलेगी 'निजात', भारी सुरक्षा के बीच पहुंची Vaccine
बारां में कोरोना वैक्सीन को लेकर लोगों में काफी उत्साह है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

राम मेहता/बारां: पिछले वर्ष मार्च महीने से खौफ के साए में जी रहे बारां जिले के वासी अब जल्द कोरोना (Corona) महामारी से निजात पाएंगे. कोविड-19 का खात्मा करने के लिए पुलिस जाप्ते के साथ पहली खेप मे 9180 वैक्सीन डोज गुरूवार शाम को जयपुर से बारां पहुंची. बारां पहुंचने पर सीएमएचओ कार्यालय में वैक्सीन लेकर आई टीम का सीएमएचओ डॉ. संपत राज नागर के नेतृत्व में जनप्रतिनिधियों ने स्वागत किया गया.

उन्होने ने बताया कि जिसका बेसब्री से हमें इंतजार था वो जीवनदायनी वैक्सीन आखिरकार मीलों सफर कर गुरूवार अभी बारां पहुंची. उन्होंने बताया कि प्रथम चरण के लिए बारां जिले को कोरोना वैक्सीन कोवीशील्ड की 9180 डोज मिली है. इसमें 16 जनवरी को लांचिंग के दिन बारां जिला अस्पताल, सीएचसी छबड़ा, सीएचसी केलवाड़ा में होगा.

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ लाइफ साइंसेज द्वारा निर्मित कोविशील्ड वैक्सीन की कुल 9180 खुराक जयपुर से बारां भेजी गई. फ्रीजर गाड़ी में विशेष बॉक्सों में 2 से 8 डिग्री सेल्सियस तापमान के बीच पूरी एहतियात के साथ वैक्सीन को बारां जिला वैक्सीन स्टोर लाया गया है.

सीएमएचओ ने बताया कि वैक्सीन की सुरक्षा-व्यवस्था में पुलिस के चार जवान बारां से ही वैक्सीन वाहन के साथ गए थे और गाड़ी के साथ ही वापस आए हैं. जिला वैक्सीन स्टोर पर अब हर समय पुलिस का पहरा रहेगा. फिर सभी बॉक्सों का तापमान चेक किया गया. वैक्सीन लेकर आई टीम के सदस्यों को सीएमएचओ डॉ संपत राज नागर, आरसीएचओ डॉ जगदीश कुशवाह ने माला पहनाकर स्वागत किया.

बता दें कि 16 जनवरी को टीकाकारण का कार्य प्रधानमंत्री द्वारा शुभारंभ कार्यक्रम के समापन के बाद ही शुरू किया जाएगा. कोविशील्ड की एक वॉयल में 10 डोज है. सत्र स्थल पर लाभार्थी की संख्या व वैक्सीन वॉयल का पूर्ण उपयोग किया जाएगा. यदि किसी एक सैशन साईट पर सभी लाभार्थियों को वैक्सीन लगाने का कार्य पूरा हो जाए तो उसके बाद नया सत्र स्थल शुरू किया जा सकता है. किसी भी सत्र स्थल हेतु लाभार्थियो की मैपिंग, कोविन सॉफटवेयर में जिनका रजिस्ट्रेशन पहले हुआ है, उसी क्रम में 'फर्स्ट इन फर्स्ट आउट' के आधार पर ही की जाएगी.