Baran की Chhabra Municipality में जमकर हंगामा, पार्षदों ने उठाया भ्रष्टाचार का मुद्दा

पार्षदों ने पालिका के नए भूखंडों के बेचान पर रोक लगाने और ऑफलाइन टेंडरों को बंद करने की मांग करते हुए अभी तक हुए ऑफलाइन टेंडरों की जांच की मांग की.

Baran की Chhabra Municipality में जमकर हंगामा, पार्षदों ने उठाया भ्रष्टाचार का मुद्दा
बैठक में वर्ष 21-22 के लिए 36 करोड़ का बजट पारित किया गया.

राम मेहता, बारां: छबड़ा कस्बे (Chhabra Town) की नगर पालिका में साधारण सभा की बैठक का आयोजन किया गया. इसमें सभी पार्षदों ने भाग लिया. बैठक की अध्यक्षता पालिका अध्यक्ष कैलाश चंद जैन (Kailash Jain) ने की. बैठक में भारी हंगामे और शोर-शराबे के बीच ऑफ लाइन टेंडर और भूखंड बेचान का विरोध किया गया. इस बैठक में वर्ष 21-22 के लिए 36 करोड़ का बजट पारित किया गया.

यह भी पढ़ें- छबड़ा में हुआ सबसे दिलचस्प मुकाबला, लॉटरी से नगर पालिका अध्यक्ष बने BJP के केसी जैन

बैठक में मौजूद पार्षदों ने सर्वप्रथम पालिका की करोड़ों रुपयों की भूमियों पर कब्जा कर रखे अतिक्रमियों के विरुद्ध कार्यवाही करने और उनके विरुद्ध थाने में मुकदमा दर्ज कराने की मांग को लेकर हंगामा कर दिया. पार्षदों ने पालिका के नए भूखंडों के बेचान पर रोक लगाने और ऑफलाइन टेंडरों को बंद करने की मांग करते हुए अभी तक हुए ऑफलाइन टेंडरों की जांच की मांग की.

यह भी पढ़ें- बारां: छबड़ा नगर पालिका में अध्यक्ष के लिए मतदान आज, मतगणना स्थल के बाहर सुरक्षा बल तैनात

बैठक में वर्ष 21-22 के लिए 36 करोड़ का बजट पारित किया गया. वार्ड 12 की पार्षद रजनी गेरा ने जहां पीएम आवास की राशि अभी तक आवंटन नहीं होने की बात रखी तो वहीं, अन्य पार्षदों ने ब्लड बैंक के लिए भूमि का आवंटन करने, बन्द पड़े पार्कों के ताले खोलने और उनका सौन्दर्यीकरण करवाने, कस्बे में सड़कों का डामरीकरण, पालिका में दलालों की दलाली प्रथा खत्म करने, कच्ची बस्ती के तहत पट्टे वितरण किये जाने, वार्ड 1 में किये गए निर्माण कार्यों की जांच कराने, सामुदायिक भवनों के टेंडरों में लीपापोती और उनकी सुरक्षा की मांग की.

इतना ही नहीं. सरकार की गाइड लाइन अनुरूप राष्ट्रीय पर्व मनाने, जिन भूखंडों की वर्षों से राशि जमा नहीं उनको निरस्त करने, पहाड़ी क्षेत्रों के वार्डों में बारिश से बचाव को लेकर सुरक्षा दीवार बनवाने, नई अग्निशमन खरीदने और अन्य कई मुद्दों को लेकर शोर-शराबे के बीच पार्षद अपनी बात रखते रहे, जिन्हें बोर्ड प्रोसीडिंग में लिया गया.