चामुण्डा माता की महिमा अपरंपार, इस एक जगह पर हैं सातों बहनें विराजित
X

चामुण्डा माता की महिमा अपरंपार, इस एक जगह पर हैं सातों बहनें विराजित

राजस्थान के कोटा जिले के मोईकलां क्षेत्र के बारापाटी वन क्षेत्र की तलहटी में विराजित चामुण्डा माता (Chamunda Mata) की महिमा अपरंपार है. 

चामुण्डा माता की महिमा अपरंपार, इस एक जगह पर हैं सातों बहनें विराजित

Kota: राजस्थान के कोटा जिले के मोईकलां क्षेत्र के बारापाटी वन क्षेत्र की तलहटी में विराजित चामुण्डा माता (Chamunda Mata) की महिमा अपरंपार है. यहां पर मां चामुण्डा सहित सातों बहन विराजित है. नवरात्र के दिनों में माता के दरबार में नौ दिन तक मेला लगता है. पंचमी व अष्ठमी का यहां पर अलग ही महत्व माना गया है. 

यह भी पढ़ें-Jalore की इस जगह गिरा था देवी सती का सिर, 'अघटेश्वरी' बन पूरी करती हैं हर इच्छा

करीब 17 सौ वर्ष प्राचीन भोजपुरा चामुण्डा माता के मंदिर (Temple) पर नवरात्र के दिनों में सुबह से शाम तक श्रद्धालु दर्शन को आते-जाते रहते हैं. वहीं अन्य दिनों में भी यहां पर हर रविवार को भक्तों का तांता लगा रहता है. राजस्थान ही नहीं समीप के कई राज्यों से भी श्रद्धालु नवरात्र के मौके पर अष्ठमी के दिन माता के दर्शन व पूजन को आते है. माता के द्वार आने वाली कई महिलाओं की वर्षो से सूनी गोद भर चुकी है. बताया जाता है कि नवरात्र के दौरान अष्ठमी के दिन माता का दिया नारियल बिन औलाद महिलाओं के लिए वरदान साबित होता है. कई महिलाओं की सूनी गोद माता के आशीर्वाद से भर चुकी है. भोजपुरा स्थित चामुण्डा माता के मंदिर के बारे में पुराने लोग बताते हैं कि यहां पर माता की पीठ पुजाई है. 

यह भी पढ़ें-एक ऐसा मंदिर जहां हर मनोकामना होती है पूर्ण, सालभर लगता है श्रद्धालुओं का तांता

मोईकलां कस्बे से 3 किमी दूर पहाड़ी की तलहटी में स्थित माता के मंदिर के आसपास भले ही पक्की धर्मशाला, रसोई घर, स्नान घर आदि का निर्माण हो गया हो पर माता के मंदिर का ऊपरी हिस्सा अभी भी कवेलु पोश ही है. कहा जाता है कि पूर्व में एक बार माता के मंदिर के उपरी हिस्से का पक्का निर्माण कार्य कराने का प्रयास किया था. तब ऐसा कुछ हुआ कि निर्माण कार्य पूर्ण कराया ही नही जा सका. तब से आज तक माता के मंदिर का ऊपरी हिस्सा कवेलु पोश ही है. सदियों से यहां पर ऐसी मान्यता है कि अष्ठमी के दिन माता के ज्वारा तोड़ने के बाद कोई भी श्रद्धालु घर जाते समय पीछे मुड़कर नही देखता और ना ही आज तक कोई श्रद्धालुअष्ठमी की रात्रि को माता के मंदिर पर रुका है. नवरात्र के दिनों में माता को किसी पकवान का नही बल्कि गेहूं के आटे से बने मीठे पुए का ही भोग लगाया जाता है.

Report-HEMANT SUMAN

Trending news