राजस्थान: 7 दिन में मिलने वाली नियुक्तियां दो साल बाद भी नहीं मिली

सात दिन में जिन अभ्यर्थियों का नियुक्तियां मिलनी थी, वो दो साल आज भी शिक्षा विभाग में अटकी हुई है.

राजस्थान: 7 दिन में मिलने वाली नियुक्तियां दो साल बाद भी नहीं मिली
1141 पदों पर नियुक्तियां का पैच 2018 से फंसा हुआ है.

जयपुर: सात दिन में जिन अभ्यर्थियों का नियुक्तियां मिलनी थी, वो दो साल आज भी शिक्षा विभाग में अटकी हुई है. प्रयोगशाला सहायक भर्ती परीक्षा, शिक्षा विभाग के लिए नई प्रयोगशाला बन चुकी है. 1141 पदों पर नियुक्तियां का पैच 2018 से फंसा हुआ है. ऐसे में बेरोजगारों का संघर्ष अब लगातार बढ़ता जा रहा है, लेकिन संघर्ष के बीच अभ्यर्थियों ने अनशन की अनुमति मांगी तो प्रशासन ने साफ इंकार कर दिया. इसलिए अब अभ्यर्थी राज्यसभा से बीजेपी के सांसद किरोड़ी लाल मीणा के आवास पर अनशन पर बैठे हैं.

कोर्ट में मजबूती से पैरवी करे बोर्ड
अब पूरा मामला कोर्ट में फंसने के बाद अभ्यर्थियों की मांग है कि राजस्थान कर्मचारी चयन बोर्ड कोर्ट में मजबूती से पैरवी करे, ताकि बेरोजगारों को जल्द से जल्द नौकरी मिल सके. 9 मई 2018 को प्रयोगशाला सहायक भर्ती परीक्षा की विज्ञप्ति जारी की थी, जिसकी परीक्षा 3 फरवरी 2019 को हुई थी और परिणाम 20 जुलाई को आया था. फिर अंतिम परिणाम 20 दिसंबर को जारी किया गया. 24 से 27 दिसंबर तक जिला आवंटन के लिए आवेदन मांगे गए, लेकिन 7 दिन में आवंटित होने वाले जिलो अभ्यर्थियों को आज तक नहीं मिले.

126 ज्ञापन सौप चुके मंत्री-अफसरों को
प्रयोगशाला सहायक भर्ती के अभ्यर्थियों का संघर्ष लगातार बढ़ता जा रहा है. बेरोजगारों ने अब तक मंत्री और अफसरों को 126 ज्ञापन सौपे हैं, लेकिन अब तक कोई ठोस आश्वासन चयनित अभ्यर्थियों को नहीं मिल पाया है. ऐसे में अब सरकार से उम्मीद है कि जल्द से जल्द उन्हें नौकरी दी जाए, ताकि उनका भविष्य संवर सके.

अनशन पर बैठे अभ्यर्थियों की तबियत बिगड़ी
सांसद किरोडीलाल मीणा के आवास पर तीन अभ्यर्थी अनशन पर बैठे हैं, जिसमें से एक अभ्यर्थी की तबियत बिगडी थी, जिसे जयपुर के SMS अस्पताल में उपचार के बाद छुट्टी मिल गई. फिर भी अभ्यर्थी का अनशन जारी है. दो और अभ्यर्थी अनशन पर बैठे हुए हैं. ऐसे में अब अभ्यर्थी लगातार नियुक्तियां की मांग को लेकर संघर्ष कर रहे हैं. अब देखना होगा कि मंत्री और अफसर कैसे पूरी विवाद का समाधान निकाल पाते हैं.