राजस्थान: शहीद हरिराम का नागौर में सैनिक सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

23 मार्च को हरि भाकर ने अपने अदम्य साहस और वीरता दिखाते हुए पाकिस्तान की नापाक हरकत का मुंहतोड़ जवाब दिया.

राजस्थान: शहीद हरिराम का नागौर में सैनिक सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार
शव यात्रा के दौरान मौजूद युवा पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाते रहे.

हनुमान तंवर/मनवीर सिंह, नागौर: नागौर जिले के मकराना तहसील के जुसरी गांव का लाल ग्रेनेडियर हरि भाकर का सोमवार को उनके गांव में सैन्य सम्मान के साथ अंतिम सलामी दी गई. शहीद के पैतृक गांव की खेत में हजारो ग्रामीणों की मौजूदगी में अंतिम संस्कार किया गया. शहीद जवान को मुखाग्नि उनके छोटे भाई हरेंद्र भाकर ने दी.

इस दौरान वहां मौजूद हजारों ग्रामीणों ने 'हरी भाकर अमर रहे हिंदुस्तान जिन्दाबाद' के नारे लगाए. वहीं, गांव से जब जुलूस निकाला गया तो इस दौरान घरों की छतों से महिलाओं ने अंतिम दर्शन करने के साथ साथ फूल बरसाए. जबकि शव यात्रा के दौरान मौजूद युवा पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाते रहे. 

पाकिस्तान को दिया करारा जवाब

गौरतलब है कि शहीद जवान जम्मू के पूंछ में ग्रेनेडियर के तौर पर तैनात था. 23 मार्च को पाकिस्तान की तरफ से भारतीय सीमा पर सीज फायर का उल्लंघन करते हुए गोलीबारी की गई. इस दौरान हरि भाकर ने अपने अदम्य साहस और वीरता दिखाते हुए पाकिस्तान की नापाक हरकत का मुंहतोड़ जवाब दिया. भाकर ने पाकिस्तान की दो चौकियों को भी उड़ा दिया. जिसके कारण पाकिस्तान के चार जवान भी मारे गए थे. लेकिन इसी दौरान पाकिस्तान की तरफ से फायर किए गए एक गोले की चपेट में आकर उसकी मौत हो गई. 

शहीद की मां के थम नहीं रहे थे आंसू

घटना की जानकारी जब उनके परिजनों को मिलने के बाद घर-परिवार के अलावा पूरा गांव में मातम छा गया. शहीद की मां के आंसुओं के सैलाब थमते नहीं दिख रहे थे. पारिवारिक सूत्रों के अनुसार, एक महीने पहले वह अपनी बहन की शादी के बाद वापस लौटा था.

वहीं, उनके पिता पदमाराम ने बेटे की शहादत के बाद मीडिया से बातचीत में कहा कि उनके बेटे ने देश सेवा के लिए प्राण न्योछावर किया है, मुझे उसपर गर्व है. अगर इस उम्र मुझे भी मौका मिले तो मैं सेना में जाकर देश सेवा कर सकता हूं. जबकि, सेना में तैनात उनके भाई हरेन्द्र भाकर ने पाकिस्तान की हरकतों का मुंहतोड़ जवाब देने की बात कही. 

खाचरियावास ने दिया भरोसा सरकार शहीद परिवार के साथ 

वहीं, वहां राज्य सरकार के प्रतिनिधि के तौर पर मौजूद सैन्य कल्याण मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा कि प्रदेश सरकार शहीद परिवार के साथ हमेशा साथ खड़ा है. उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज आये. नहीं तो भारतीय सेनाएं अपना शौर्य दिखाएंगी और एक बार फिर पाकिस्तान के टुकड़े हो जाएंगा.

अंतिम संस्कार के दौरान प्रदेश के सैन्य कल्याण मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास के अलावा राज्य विधानसभा में उपमुख्य सचेतक महेंद्र चौधरी, केंद्रीय मंत्री और नागौर सांसद सीआर चौधरी, डीडवाना विधायक चेतन डूडी सहित जिले के कई जनप्रतिनिधि मौजूद थे.