सप्ताह में केवल एक दिन निवेश करके कैसे बेहतर कमाई करते हैं लोग, जानें सही तरीका

जी राजस्थान वेब टीम Sat, 05 Sep 2020-4:08 pm,

बिना जानकारी और गलत जगह निवेश करने से होने वाले नुकसान को लेकर जनता में कई तरह की भ्रांतियां हैं.

मुंबई: दुनिया के टॉप जीडीपी वाले देशों की बात करें तो भारत पांचवें नंबर पर अपनी मजबूत स्थिति के साथ खड़ा है लेकिन अगर स्टॉक एक्सचेंज मार्केट की बात करें तो हमारी आबादी का सिर्फ 5 से 6 प्रतिशत आबादी ही इसके साथ जुड़ा है. 


ऐसा इसीलिए है क्योंकि बिना जानकारी और गलत जगह निवेश करने से होने वाले नुकसान को लेकर जनता में कई तरह की भ्रांतियां हैं. स्टॉक मार्केट में वे ही लोग सफल होते हैं, जिनके पास इसकी जानकारी, उचित मार्गदर्शन, दूर दृष्टि और निवेश के लिए सही रणनीति है. ऐसे में स्टॉक मार्केट विशेषज्ञ की महत्ता और अधिक बढ़ जाती है.


Advertising
Advertising

यह भी पढ़ें- JEN-AEN भर्ती पाठ्यक्रम को लेकर अभ्यर्थियों में रोष, बोले- सरकार करे बदलाव नहीं तो..


स्टॉक मार्केट एनालिस्ट टारगेट अकाउंट्स के को-फाउंडर सीए संजय जसवानी ने बताया कि अगर हम फिक्स्ड डिपॉजिट या बचत खाते में पैसा बचाने की सोचते हैं तो 7 प्रतिशत रिटर्न में हमें 3.5 प्रतिशत तक ही बचत हो पा रही है जबकि महंगाई 4 से 6 प्रतिशत तक बढ़ रही है. इसका मतलब अगर आप सोच रहे हैं कि सेविंग अकाउंट में आपका पैसा बढ़ रहा है तो आप गलत हैं. महंगाई के कारण आपके पैसे का मूल्य उतना ही है या कम हो रहा है. यही कारण है कि आपकी बचत या उससे अधिक पर कम से कम 18 प्रतिशत रिटर्न प्राप्त करना और निवेश करना बहुत आवश्यक है.


क्या कहना है इन्वेस्टर्स का
संजय ने बताया कि मैं गुरुवार के दिन ही ट्रेड करता हूं और और अच्छा मुनाफा कमा लेता हूं और उसी के अनुसार आगे के लिए निवेश की योजना बनाता हूं. जरूरी नहीं कि हर दिन ट्रेड किया जाए. आप एक दिन अच्छे से योजना बनाकर अपने निवेश का ज्यादा से ज्यादा रिटर्न हासिल कर सकते हैं. 


16 साल की उम्र से स्टॉक मार्केट में अपनी यात्रा शुरू करने वाली स्वीटी उपाध्याय कम उम्र में इस क्षेत्र से जुडऩे के कारण आज अपनी जानकारी लोगों के साथ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर करती हैं. वे टारगेट अकाउंट्स की को-फाउंडर हैं. उन्होंने बताया कि अमेरिका जैसे विकसित देशों की सफलता का एक कारण ये भी है कि उनके नागरिक आर्थिक रूप से साक्षर हैं. वे शेयर बाजार को समझते हैं तथा उसमे निवेश करते हैं. यही आंकड़ा विकासशील देशों में बहुत काम है, जिस कारण देश के विकास पे भी प्रभाव पड़ता है. 


टारगेट एकाउंट्स का सपना यह है कि जैसे लोग स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस, दिवाली, होली को उत्साह से मानते हैं, वे वित्तीय स्वतंत्रता के लिए भी एक दिन मनाएं, जिससे भारत सफलता की ऊंचाइयों को छू सके.


 

ZEENEWS TRENDING STORIES

By continuing to use the site, you agree to the use of cookies. You can find out more by Tapping this link