सरदारशहर तहसील की इन जगहों पर टिड्डियों ने बोला धावा, किसान परेशान

उपखंड अधिकारी रीना छिंपा ने बताया कि उपखंड स्तर पर टिड्डी दल को नष्ट करने की व्यवस्था की गई है. 

सरदारशहर तहसील की इन जगहों पर टिड्डियों ने बोला धावा, किसान परेशान
प्रतीकात्मक तस्वीर.

चूरू: सरदारशहर तहसील क्षेत्र में पिछले तीन दिन से टिड्डियों ने डेरा जमा रखा है. किसान ट्रैक्टर चला रहे हैं तो कोई बाइक चलाकर, थाली, ढोल आदि बजाकर टिड्डियों को भगाने का प्रयास कर रहा है.

यह टिड्डी दल कई किलोमीटर में फैला हुआ है, जिसके कारण फसलों को भारी नुकसान हुआ है. किसान टिड्डियों को भगाने के लिए दिन-रात खेतों में जुटे हुए हैं. टिड्डियों को भगाने के लिए किसान खेतों में ट्रैक्टर चला रहे हैं तो कोई बाइक चलाकर तेज आवाज कर प्रयास कर रहा है. 

कोई किसान थाली, ढोल आदि बजाकर टिड्डियों को भगाने का प्रयास कर रहा है. फिर भी टिड्डियां क्षेत्र में पैर पसार लिए हैं, जिसके कारण किसानों की उम्मीदों पर पानी फिर गया है. 

इन जगहों पर हुआ नुकसान
टिड्डी दल का तोलासर, रोलासर, भोजासर, रणसीसर बिजरासर, रामसीसर, सवाई, बन्धनाऊ, भोजूसर उपाधियान, पातलीसर, सोनपालसर, कीकासर, बीकमसरा सहित दो दर्जन गांवों में अधिक असर देखा गया, जिसके कारण किसान दिन-रात टिड्डियों को भगाने के लिए थाली और अन्य चीजों को बजा रहा है. फिर भी टिड्डी ने फसलों को चट कर गई, जिसके कारण किसानों की चिंताएं बढ़ गई हैं. टिड्डी के कारण मूंगफली, नरमा आदि फसलों को भारी नुकसान हुआ है. 

भगवान भरोसे बैठे हैं किसान 
अखिल भारतीय किसानसभा के प्रदेश महामंत्री छगनलाल चौधरी ने बताया कि टिड्डी दल आने की सूचना तुरंत जिला कन्ट्रोल रूम में करने के साथ स्थानीय प्रशासन को दी गई लेकिन कोई असर नहीं हुआ. किसान भगवान भरोसे बैठे हैं. किसानों की ओर से कई जतन करने के बावजूद भी किसानों की आंखों के सामने फसल चौपट हो रही है. 

टिड्डी दल ने फसलों को चौपट कर दिया
किसान भजननाथ सिद्ध ने बताया कि पहले ओलावृष्टि, बेमौसम बारिश से किसानों को भारी नुकसान हुआ. किसानों ने किसी तरह कर्ज लेकर मूंगफली और कपास की बुवाई की. अब टिड्डी दल ने फसलों को चौपट कर दिया. वही आज भी आए दिन डीजल का भाव बढ़ा रहा है, जिसके कारण किसानों की कमर टूट गई है. यदि सरकार शीघ्र आर्थिक मदद नहीं की तो किसान बर्बाद हो जाएगा. 

उपखंड अधिकारी रीना छिंपा ने बताया कि उपखंड स्तर पर टिड्डी दल को नष्ट करने की व्यवस्था की गई है. शाम के समय जहां भी टिड्डी दल पड़ाव डालता है, प्रशासनिक टीम उन को नष्ट करने का कार्य करती है लेकिन तहसील में टीडी दल का कहर कम होने का नाम नहीं ले रहा है, जिसके चलते किसानों की फसलों को भारी भरकम नुकसान हुआ है.