लोकसभा चुनाव 2019: राजस्थान की 25 सीटों पर कांग्रेस की रणनीति में बदलाव! आज होगा फैसला

लोकसभा चुनाव में प्रत्याशियों के चयन के लिए कांग्रेस पिछले 2 महीने से जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं से फीडबैक ले रही है लेकिन अभी तक टिकट वितरण का कोई फार्मूला तैयार नहीं हो पाया है.

लोकसभा चुनाव 2019: राजस्थान की 25 सीटों पर कांग्रेस की रणनीति में बदलाव! आज होगा फैसला
फाइल फोटो

जयपुर: लोकसभा चुनाव में राजस्थान मिशन 25 को हासिल करने की कवायद में जुटी कांग्रेस पिछले 2 महीने से लगातार प्रत्याशियों के चयन को लेकर मंथन में जुटी है. जमीनी स्तर से मिले फीडबैक के आधार पर कांग्रेस ने एक दर्जन सीटों पर अपने नाम तय भी कर लिए थे लेकिन देश में एयर स्ट्राइक के बाद बदले माहौल के चलते अब कांग्रेस अपनी रणनीति बदलने जा रही है. नई रणनीति के तहत टिकट वितरण का कोई फार्मूला नहीं रहा है. अब हारे हुए विधायक से लेकर हारे हुए एमपी और वर्तमान मंत्रियों को भी चुनाव लड़ने का मौका दिया जा सकता है. 

लोकसभा चुनाव में प्रत्याशियों के चयन के लिए कांग्रेस पिछले 2 महीने से जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं से फीडबैक ले रही है लेकिन अभी तक टिकट वितरण का कोई फार्मूला तैयार नहीं हो पाया है. हालांकि 15 दिन पहले प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे ने एहसास किया था कि हारे हुए विधायकों को टिकट नहीं दिया जाएगा लेकिन एयर स्ट्राइक के बाद देश में अलग हालातों के चलते कांग्रेसी टिकट वितरण में कोई भी पैरामीटर नहीं रखना चाहती है. कांग्रेस लोकसभा चुनाव में केवल जिताऊ उम्मीदवारों को ही टिकट देगी जिसमें हारे हुए विधायकों से लेकर हारे हुए एमपी और वर्तमान मंत्री भी शामिल हैं. हालांकि सचिन पायलट यह साफ कर चुके हैं कि उनके परिवार से कोई चुनाव नहीं लड़ेगा लेकिन कुछ पॉलीटिकल बैकग्राउंड वाले नेताओं को भी टिकट दिया जा सकता है.

विधानसभा चुनाव की तुलना में लोकसभा चुनाव के समीकरण बेहद अलग होते हैं. लोकसभा चुनाव में प्रत्याशी के पास एक निश्चित जनाधार होना बेहद जरूरी है. साथ ही लोकसभा सीट पर आने वाले विधायकों का समर्थन भी उसके पास होना बेहद लाजमी है. हारे हुए विधायकों में टिकट की दावेदारी करने वाले नेताओं का कहना है कांग्रेस में लोकतांत्रिक व्यवस्था है टिकट की दावेदारी सभी कर सकते हैं. टिकट देने या नहीं देने का निर्णय पार्टी को करना है.