नागौर: मनरेगा कार्य के दौरान बड़ा हादसा, तीन मजदूरों की मौत

 नागौर के नावां उपखण्ड के शिंभूपुरा पंचायत के बावड़ी गांव में मनरेगा कार्य के दौरान एक हादसे में तीन मनरेगा मजदूरों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है.

नागौर: मनरेगा कार्य के दौरान बड़ा हादसा, तीन मजदूरों की मौत
महिला मजदूर तालाब में अपनी तगारी और फावड़ा धोने के लिए जैसे ही तालाब के नजदीक गई तो उसका पैर फिसल गया.

हनुमान तंवर, नागौर: राजस्थान के नागौर के नावां उपखण्ड के शिंभूपुरा पंचायत के बावड़ी गांव में मनरेगा कार्य के दौरान एक हादसे में तीन मनरेगा मजदूरों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है. जबकि 3 मजदूरों की स्थिति चिंताजनक बनी ही है. जानकारी के अनुसार श्यामगढ़ पंचायत में एक तालाब में मनरेगा के कार्य चल रहा था.

ये भी पढ़ें: विधानसभा सत्र बुलाने के लिए गहलोत सरकार ने राज्यपाल को भेजा तीसरा प्रस्ताव

मनरेगा के समय पूरा होने पर मजदूरों से एक महिला मजदूर तालाब में अपनी तगारी और फावड़ा धोने के लिए जैसे ही तालाब के नजदीक गई तो उसका पैर फिसल गया और वो गहरे पानी में डूब गई. जिसे बचाने के लिए एक के बाद एक पांच मजदूर और बावड़ी में उत्तर गए. जिनमे से 1 युवती और एक महिला मजदूर भी पानी में डूब गए. 

बाद में मेट और मजदूरों ने जैसे तैसे सभी को बाहर निकाला और मारोठ के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे जहां दो महिला मजदूरों और 1 युवती को चिकित्सकों को प्राथमिक जांच के बाद मृत घोषित कर दिया. जबकि एक महिला मजदूर और मेट की स्थित चिंताजनक होने पर उसे कुचामन रेफर कर दिया. 

घटना की जानकारी मिलते ही मारोठ अस्पताल में भीड़ जमा हो गई. वहीं, तीन मजदूरों की मौत की सूचना से अस्पताल में कोहराम मच गया. घटना की जानकारी मिलने पर नावां उपखण्ड अधिकारी ब्रम्हलाल जाट मौके पर पहुंचे. मारोठ थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

ये भी पढ़ें: भारत-पाक सीमा पर फिर उलझा एक अहम मामला, जानिए वजह...