जयपुर में मकर संक्रांति की धूम आज, सोने-चांदी की पतंग उड़ा रहे ठाकुरजी

भक्तों ने भी ठाकुर जी को पतंगें भेंट कीं चूंकि यह पतंगों का त्योहार भी है, इसलिए मंदिर को पतंगों से सजाया गया. 

जयपुर में मकर संक्रांति की धूम आज, सोने-चांदी की पतंग उड़ा रहे ठाकुरजी
जयपुर के अराध्य देव गोविंद देवजी और मोतीडूंगरी गणेश मंदिर में लोगों ने ठाकुर जी को पतंगें भेंट कीं.

जयपुर: सूर्य का मकर राशि में प्रवेश होने के साथ ही मकर संक्रांति का महापर्व आज पूरे जोश के साथ मनाया गया. लोगों ने अपने दिन की शुरूआत मंदिरों में भगवान के दर्शन के साथ की.

जयपुर के अराध्य देव गोविंद देवजी और मोतीडूंगरी गणेश मंदिर में लोगों ने ठाकुर जी को पतंगें भेंट कीं, वहीं, जयपुराइट्स ने तिल के दान के साथ गलता में स्नान किया. जयपुर के गोविंददेवजी मंदिर में पतंगों की झांकी सजाई गई. इसमें ठाकुरजी पतंग उड़ा रहे हैं और राधा ने चरखी थाम रखी है. इसमें खास यह है कि जहां पतंग सोने की है, वहीं चरखी चांदी की है. यह भक्तों में आकर्षण का केंद्र रहीं.

वहीं मंदिर के प्रांगड़ को पतंगों से सजाया गया. भक्तों ने भी ठाकुर जी को पतंगें भेंट कीं चूंकि यह पतंगों का त्योहार भी है, इसलिए मंदिर को पतंगों से सजाया गया. भक्तों ने मंदिर में खिचड़ी, तिल-गुड़ के लड्डू भेंट किए. वहीं मंदिरों के बाहर गायों को हरा चारा डाला. मकर संक्रांति बेहद शुभ दिन माना जाता है, इसलिए लोग अपने दिन की शुरूआत शुभ काम के साथ करते हैं.

बता दें कि जयपुर में इस महापर्व पर पतंगों के पेंच जमकर लड़ाए जा रहे हैं. इसके चलते मंगलवार तो 2 बार मेट्रो का संचालन प्रभावित हुआ हालांकि मेट्रो प्रशासन ने बिना बाधा के तय समय में यात्रा पूरी की. मेट्रो इलेक्ट्रिक पोल में मांझा फंसने से ट्रेन प्रभावित हुई थी.

दरअसल, मकर संक्रांति का त्योहार आते ही पतंगबाजी के शौकीन बच्चे और युवाओं के सिर पतंगबाजी का जुनून चढ़ जाता है. पतंगबाजी के दौरान रेलवे ट्रेक पर कोई पतंगबाजी नहीं करें. इसके लिए रेलवे ने निर्देश तो जारी कर दिए लेकिन किसी रेलवे पुलिसकर्मियों की ड्यूटियां गश्त के लिए नहीं लगाई. कोई गश्त नहीं होने के कारण सिविल लाइन फाटक के पास छोटे-छोटे बच्चे रेलवे ट्रैक पर पतंगबाजी करते नजर आए.