बीमा क्लेम उठाने के लिए आरोपी ने खुद की जगह दोस्त को लगाया था ठिकाने, हुआ खुलासा

दर्ज गुमशुदगी में लगी फोटो कार में मिले दस्तावेजों से मेल नहीं खाना और गुमशुदा व्यक्ति मूल रुप से सरदार शहर का क्लू मिलने पर पुलिस ने जांच को आगे बढ़ाया था और मुख्य आरोपी को ढूंढ निकाला.

बीमा क्लेम उठाने के लिए आरोपी ने खुद की जगह दोस्त को लगाया था ठिकाने, हुआ खुलासा
प्रतीकात्मक तस्वीर.

नारेंद्र राठौड़, रतनगढ़: स्थानीय थाना पुलिस में एक जली हुई कार से एक युवक की बॉडी मिलने पर वर्ष 2018 के सितम्बर माह की 8 तारीख को प्राथमिकी सहिता की धारा 302 और 201 के तहत थाने के तत्कालीन इंचार्ज द्वारा अज्ञात के विरुद्ध दर्ज की गई थी. 

उक्त मामले में पुलिस द्वारा आज उस पर से पर्दा उठाया गया. दर्ज प्रकरण के बाबत थाना इंचार्ज महेंद्र चावला ने बताया कि उक्त प्रकरण के आरोपी कैलाश पुत्र सीताराम जाति स्वामी उम्र 42 निवासी वार्ड संख्या 7 रामनगर बास सरदारशहर हाल 530/4 देवकी नगर थाना श्याम नगर जयपुर को गिरफ्तार कर घटना से पर्दा उठाया थाना इंचार्ज चावला ने बताया कि आरोपी लाखों रुपये के कर्ज से घिर गया, जिस पर आरोपी ने फिल्मी अंदाज से दिमाग लड़ाया और आरोपी ने पहले तो खुद का  45 लाख का बीमा करवाया.

फिर इस बीमा की राशि उठाने के लिए आरोपी ने अपने मित्र किशनलाल पुत्र रेवंतराम जाति सेवक उम्र 42 वर्ष निवासी वार्ड संख्या 23 मुरजी की कुई सरदारशहर हाल रामलीला मैदान थाना खाजूवाला को घटना वाले दिन एक कार में बैठाकर रतनगढ़ थाना अंतर्गत मेघा हाईवे सरदारशहर रोड पर कार में दोस्त को जिंदा जला दिया और मौके से फरार हो गया. जब जली कार में बॉडी की सूचना रतनगढ़ पुलिस को मिली तो पुलिस ने मौके पर पहुंच कर घटना का जायजा लिया और कार में मिले दस्तावेज जो आरोपी के नाम से थे, उस पर पुलिस ने आरोपी के घर वालो से संपर्क कर उन्हें रतनगढ़ बुलाया और कार में मिले शव को दिखाया, जिस पर आरोपी के घर वालो ने शव को कैलाश का नही होने का दावा किया.

इस पर पुलिस ने उक्त घटना पर अज्ञात के विरुद्ध प्रकरण दर्ज किया था. घटना के बाद रतनगढ़ थाने में दो तीन इंचार्ज बदल गए. घटना वाले दिन कार में हैंड ब्रेक का लगा होना, कार में मिले दस्तावेज नहीं जलने आदि पर फोकस किया और उस दौरान आस-पास की जिलों में कार में मिले शव की उम्र के हिसाब से कोई गुमशुदगी दर्ज हुई है क्या, उस पर फोकस कर जांच को आगे बढ़ाया तो उक्त उम्र के अनुसार मृतक खाजूवाला थाने में एक गुमशुदगी दर्ज मिली. 

दर्ज गुमशुदगी में लगी फोटो कार में मिले दस्तावेजों से मेल नहीं खाना और गुमशुदा व्यक्ति मूल रुप से सरदार शहर का क्लू मिलने पर पुलिस ने जांच को आगे बढ़ाया था और मुख्य आरोपी को ढूंढ निकाला.