मानवता की जंग लड़ते हुए कोरोना संक्रमित हुईं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, कही ये बात

समेकित बाल विकास विभाग की उप निदेशक उषा शर्मा बताती हैं कि जयपुर जिले में करीब 2000 आंगनबाड़ी वर्कर्स हैं.

मानवता की जंग लड़ते हुए कोरोना संक्रमित हुईं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, कही ये बात
सभी मानदेय कार्यकर्ता कोरोना योद्धा के रूप में सराहनीय कार्य कर रहे हैं.

जयपुर: राजधानी में जैसे-जैसे कोरोना संक्रमण का ग्राफ बढ़ा, कई मददगार हाथ भी आगे बढ़े, लेकिन कुछ मददगार ऐसे थे, जो मानवता की इस जंग में खुद भी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए, लेकिन फिर भी उनका जज्बा कम नहीं हुआ. 

यहां जिक्र है जयपुर जिले की उन हजारों आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का, जो जिले के हर गांव-कस्बाई और शहरी इलाके में घर-घर दस्तक देकर इस लड़ाई के मोर्चे पर कई दूसरे कैडर के साथ फ्रंट लाइन पर हैं. अपने कर्तव्य पालन के दौरान तीन आंगनबाड़ी कार्यकर्ता इस रोग की पीड़ा से गुजरने के बावजूद पूरी तरह ठीक होकर वापस अपने काम में जुट जाना चाहती हैं. 

समेकित बाल विकास विभाग की उप निदेशक उषा शर्मा बताती हैं कि जयपुर जिले में करीब 2000 आंगनबाड़ी वर्कर्स हैं. इनमें आंगनबाड़ी सहायिका, आशा सहयोगिनी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और मिनी कार्यकर्ता जिले में कोरोना की आहट के साथ ही इसकी रोकथाम के कार्य में जुट गए थे. इस दौरान मेडिकल टीम के साथ घर-घर जाकर कई दौर में सर्वे कार्य करते हुए इन्होंने हर गली-मोहल्ले, हर घर के दरवाजे पर दस्तक दी. 

संक्रमण का शिकार हो गईं कई आशा सहयोगिनी संक्रमित
ऐसी गलियों में भी जहां कन्टेंनेंट जोन और कर्फ्यू के कारण दूसरे लोगों का निकलना मना था, ये रोजाना डटी रहीं. कोरोना योद्धा के रूप में अपने कर्तव्य का निर्वाह करते हुए विभाग की 3 कार्यकर्ता और 2 आशा सहयोगिनी कोरोना संक्रमण का शिकार हो गईं लेकिन उनके जज्बे ने ही इन्हें इस रोग से निजात दिलाई और अब तीनों कार्यकर्ता नारायणा, निम्स और सवाई मानसिंह हाॅस्पिटल, जयपुर से स्वस्थ्य होकर छुट्टी पा चुकी हैं. 

अस्पताल से छुट्टी जरूर मिल चुकी है लेकिन अभी मेडिकल प्रोटोकॉल और कमजोरी के कारण इनको घर पर ही रहना होगा. ऐसे में भी ये अपनी फील्डवर्कर साथियों और अधिकारियों से लगातार संपर्क में हैं और पूरी तरह स्वस्थ होकर फिर से लौटना चाहती हैं. इस निर्णय में उनका पूरा परिवार भी उनके साथ खड़ा है. श्रीमती शर्मा ने बताया कि अभी भी 2 आशा सहयोगनी कोरोना से जंग लड़ रही हैं और उन्हें उम्मीद है कि वे भी जल्द ही कोरोना को हराकर लौटेंगी.

घर-घर जाकर कर रही सर्वे कार्य 
सभी मानदेय कार्यकर्ता कोरोना योद्धा के रूप में सराहनीय कार्य कर रहे हैं. इनके द्वारा घर-घर जाकर सर्वे कार्य करने के साथ ही खाद्य सामग्री वितरण में सहयोग किया जा रहा है. होम क्वारेंटाइन किए गए व्यक्ति के घर पर सूचना चस्पा करने का कार्य हो या आंकड़े इकट्ठा करना, संक्रमित व्यक्ति के आस-पास के घरों में सैनेटाइजेशन आदि का कार्य भी आंगनबाड़ी वर्कर्स द्वारा लगातार किया जा रहा है. इन कार्यकर्ताओं के साथ ही जिले के बाल विकास परियोजना अधिकारी एवं महिला पर्यवेक्षक भी मॉनिटरिंग और विभिन्न पीएचसी पर कोरोना प्रबंधन से जुड़े कार्यों में जुटे हुए हैं.