जयपुर में दो माह बाद खुले बाजार, जानिए किन इलाकों में मिली रियायत...

यह सभी रियायत सुबह 7:00 बजे से शाम को 7:00 बजे तक भी मिलेगी. शहर की सड़कों पर फिर एक बार ठीक 2 महीने बाद बाजार खुलने से चहल कदमी देखने को मिलेगी. 

जयपुर में दो माह बाद खुले बाजार, जानिए किन इलाकों में मिली रियायत...
लॉकडाउन 4.0 में कंटेनमेंट जोन और कफ्यूग्रस्त इलाकों को छोड़कर बाजार खुलेंगे.

जयपुर: केंद्र सरकार की गाइडलाइन जारी होने के बाद राजस्थान सरकार ने भी अपनी गाइडलाइन जारी कर दी है. जयपुर शहर को रेड जोन में शामिल किया गया है. वहीं, ग्रामीण क्षेत्र की सभी 15 पंचायत समिति क्षेत्रों को ऑरेंज जोन में शामिल किया गया है. जयपुर शहर के कंटेंटमेंट और कर्फ्यूग्रस्त इलाकों में कोई रियायत नहीं दी गई है. लेकिन इसके बाहर के क्षेत्रों में सशर्तें सभी बाजार खुलेंगे.

यह सभी रियायत सुबह 7:00 बजे से शाम को 7:00 बजे तक भी मिलेगी. शहर की सड़कों पर फिर एक बार ठीक 2 महीने बाद बाजार खुलने से चहल कदमी देखने को मिलेगी. हालांकि, अभी मॉल्स, पार्क धार्मिक स्थल, जिम, सार्वजनिक परिवहन सेवा, तंबाकू पान मसाला पर पूरी तरीके से प्रतिबंधित रहेंगे. 

लॉकडाउन 4.0 में कंटेनमेंट जोन और कफ्यूग्रस्त इलाकों को छोड़कर बाजार खुलेंगे. दो महीने बाद जयपुर जिले में ये रियायत दी गई है. राज्य सरकार को जयपुर नगरीय क्षेत्र को रेड जोन और जिले की 15 पंचायत समितियों को ओरेंज जोन में माना है. जयपुर शहर में पॉजिटिव केसों की संख्या ज्यादा होने से रेड जोन घोषित किया गया है. ग्रामीण क्षेत्र के अलग-अलग हिस्सों में फैले संक्रमण के कारण ओरेंज जोन में शामिल किया गया है. ऐसे में ग्रामीण क्षेत्रों में शहर के मुकाबले रियायत ज्यादा होगी. लेकिन सुबह सात बजे से शाम सात बजे तक ही इस रियायत का फायदा मिल सकेगा. 

वहीं, जयपुर जिले को ग्रीन जोन में नहीं माना गया है. जयपुर शहर में परकोटे सहित चार थाना क्षेत्र सहित 110 कफ्यू्ग्रस्त इलाकों में कोई भी राहत नहीं मिलेगी. जिले की 66 लाख की आबादी में से शहर में 15 लाख की आबादी को केवल जरूरी सेवाएं ही मिलती रहेंगी. पब्लिक ट्रांसपोर्ट और ऑनलाइन कैब सर्विसेज के लिए अभी इंतजार करना होगा. तीसरे लॉक डाउन में पहले ही मिठाई, रेस्टोरेंट, किराना, दूध, सब्जी, स्टेशनरी सहित जरूरी सेवाएं पहले ही शुरू की गई है. लेकिन गुटखे, तम्बाकू बिक्री पर पूर्णतय पाबंदी रहेगी. सरकारी और निजी दफ्तरों में 50 फीसदी स्टॉफ आ सकेगा. 

बाजार जो पहले खुले
खाद्य सामग्री की दुकानें, मेडिकल शॉप, स्टेशनरी शॉप, फल-सब्जी दुकानें,उचित मुल्य की दुकान, गाडियों के शोरूम, मिठाई, टेक एंड वे रेस्टोरेंट, हार्डवेयर, इलेक्टांनिक्स शॉप, दूध-डेयरी, मोबाइल शॉप. 

अब खुलेंगी
चारदीवारी क्षेत्र को छोड़कर समस्त दुकानें सशर्ते खुलेगी. वहीं, गुटखा, तंम्बाकू दुकान, इन पर पूर्ण प्रतिबंध-धार्मिक स्थल, राजनीतिक कार्यक्रम, सिनेमाघर, शहरी परिवहन, मेट्रो, सार्वजनिक पार्क, जिम, ऑडिटोरियम बंद रहेंगे. बिना दर्शकों के शहर के विद्याधर नगर, मानसरोवर और सांगानेर स्टेडियम खुलेंगे, जबकि, कफ्यू क्षेत्र के कारण चौगान स्टेडियम बंद रहेगा. वहीं, शहर को रेड जोन में होने के कारण लोगों को परिवहन सेवा के लिए इंतजार करना होगा. जयपुर में लो—फ्लोर, मेट्रो, ई—रिक्शा, कैब, निजी बस, टैक्सी, ऑटो सेवा बंद रहेगी. ग्रामीण क्षेत्र में परिवहन सेवा शर्तों के साथ खुलेंगी.

सरकारी और निजी कार्यालय में 33 की जगह 50 फीसदी स्टॉफआ सकेगा. साथ ही औद्यौगिक और सेवा प्रतिष्ठानों में आवश्यकता अनुसार कार्मिक आ सकेंगे. पहले 33 फीसदी स्टॉफ आ रहा था. शहरी क्षेत्र में खान-पान में किसी तरह की छूट नहीं दी गई है. बाजार चाट बाजार भी नहीं खुल सकेगा. जहां खाने की दुकानें खुलेंगी वहां पहले की जगह पैकिंग व्यवस्था रहेगी. लोग दुकान के अंदर प्रवेश नहीं कर सकेंगे. 

ग्रामीण क्षेत्रों में इन पंचायत समितियों में राहतजिले की 15 पंचायत समितियों को ओरेंज जोन में शामिल किया गया है. इनमें जयपुर शहर से ज्यादा रियायत दी गई है. ग्रामीण क्षेत्रों में लोग पार्कों में घूम सकेंगे तो बाजारों में खरीददारी कर सकेंगे. पंचायत समिति क्षेत्रों में सरकारी और निजी कार्यालयों में 75 फीसदी स्टॉफ आ जा सकेगा. सामुदायिक पार्क सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक खुले रहेंगे. परिवहन सेवा में कैब में दो यात्री और ऑटो और साइकिल रिक्शा में एक यात्री की अनुमति रहेगी. यहां सिटी बसों की अनुमति नहीं रहेगी. ओरेंज जोन में प्रतिबंधित दुकानों को छोड़कर बाजार में सभी दुकानें खुली रहेंगी. वहीं, आमेर, कोटपूतली, बस्सी, पावटा, चाकसू, फागी, दूदू, सांभर, गोविंदगढ़, सांगानेर, जालसू, शाहपुरा, जमवारामगढ़, विराटनगर, झोटवाड़ा पंचायत समितियों में छूट ही गई है.