कोटा मेडिकल कॉलेज में बढ़ी एमबीबीएस की सीटें, छात्रों में जश्न का माहौल

इससे पहले एमबीबीएस प्रथम वर्ष की क्लास में 150 सीटें ही स्वीकृत थी. एमबीबीएस प्रथम वर्ष में प्रवेश के लिए नीट का रिजल्ट 6 जून को आ जाएगा.

कोटा मेडिकल कॉलेज में बढ़ी एमबीबीएस की सीटें, छात्रों में जश्न का माहौल
प्रवेश प्रक्रिया पूरी होने के बाद 1 अगस्त से प्रथम वर्ष की कक्षाएं संचालित होंगी.

कोटा: प्रदेश की कोचिंग सिटी कोटा के लिए बड़ी खुशखबरी है. कोटा का मेडिकल कॉलेज अब 250 सीटों का हो गया है. एमसीआई से मंजूरी मिलने के बाद भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद की अनुमति से 100 सीट का इजाफा हुआ है. यानी कोटा मेडिकल कॉलेज में 150 सीट से बढ़कर 250 हो गई है. 100 एमबीबीएस की सीटे बढ़ जाने के बाद अब कोटा में अब 250 मेडिकल छात्र तैयार होंगे. इसके साथ ही दो साल का इंतजार खत्म हो गया. 

इससे पहले एमबीबीएस प्रथम वर्ष की क्लास में 150 सीटें ही स्वीकृत थी. एमबीबीएस प्रथम वर्ष में प्रवेश के लिए नीट का रिजल्ट 6 जून को आ जाएगा. इसी के साथ कोटा मेडिकल कॉलेज में इसी सत्र से 250 एमबीबीएस प्रथम वर्ष की पढ़ाई भी शुरू होगी. प्रवेश प्रक्रिया पूरी होने के बाद 1 अगस्त से प्रथम वर्ष की कक्षाएं संचालित होंगी. 

गौरतलब है कि एमसीआई टीम, अक्टूबर 2017 मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण करने कोटा आई थी. उस समय मेडिकल कॉलेज व जिला अस्पताल में कई खामियां पाई गईं. इसे बाद कोटा अस्पताल प्रशासन ने दोबार रिवाईज प्रपोजल बनाया और एमसीआई में अपना प्रजेंटेशन दिया. इसके बाद फिर दुबारा टीम 25 अप्रेल 2019 को निरीक्षण करने आई. 

तब भी इमरजेंसी, गायनिक समेत अन्य वार्डों में पर्याप्त इक्यूपमेंट तक नहीं होने, वेंटीलेटर, लेबर रूम समेत कई खामियां बताई. इससे प्राचार्य डॉ. वर्मा एग्री नहीं हुए. उन्होंने एमसीआई द्वारा बताई गई कमियों की पूर्ति करते हुए फोटाग्राफ्स के साथ दस्तावेज तैयार किए. जिसका एक प्रजेंटेशन दिया. इसके बाद डॉ. वर्मा ने कुछ कमियों की अडंरटेकिंग भी एमसीआई को सौंपी हैं. इसके बाद कोटा मेडिकल कॉलेज में 150 से 250 सीटे बढ़ने की अनुमति मिल गई हैं. 

बता दें कि 100 सीटे बढ़ने से कोटा के एमबीएस, जेके लोन और मेडिकल कॉलेज अस्पताल में रेजीडेंटों की संख्या बढ़ जाएंगी. इससे कोटा में उपचार के लिए आने वाले मरीजों की सार संभाल ओर ठीक तरह से हो सकेगी.