close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: छात्र संघ रिजल्ट के बाद कांग्रेस में मंथन जारी, हो सकता है सांगठनिक बदलाव

प्रदेश में सरकार बनाने वाली कांग्रेस के लिए निकाय और पंचायत चुनाव के पूर्व के परिणाम निराश करने वाले रहे.

राजस्थान: छात्र संघ रिजल्ट के बाद कांग्रेस में मंथन जारी, हो सकता है सांगठनिक बदलाव
सीएम ने एनएसयूआई के प्रदर्शन को बेहतर माना है. (फाइल फोटो)

जयपुर: राजस्थान छात्र संघ चुनाव 2019 में एनएसयूआई को हार मिलने के बाद मंथन का दौर चल रहा है. इस चुनाव में कांग्रेस के छात्र संगठन को करारी हार मिली है. जिससे कांग्रेस पार्टी के लिए बड़ा झटका लगा है. माना जा रहा छात्र संघ चुनाव का परिणाम आने के बाद यूथ कांग्रेस और एनएसयूआई संगठन में बदलाव हो सकता है. 

प्रदेश में सत्ता में होने के बावजूद एनएसयूआई राजस्थान में एक भी विश्वविद्यालय का चुनाव जीतने में कामयाब नहीं हो पाई है. कांग्रेस नेताओं का मानना है कि इन चुनावों के परिणामों से संदेश गया है कि राजस्थान का यूथ कांग्रेस के साथ नहीं है. ऐसे में निकाय चुनाव की तैयारियों में जुटे नेता अब इस दिशा में नई रणनीति बना रहे हैं.

नहीं नजर आई सक्रियता
सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक एनएसयूआई और यूथ कांग्रेस के संगठन को मजबूत करने के लिए आने वाले दिनों में प्रक्रिया बदलने की तैयारी की जा रही है. अभी तक दोनों ही संगठनों में प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव किया जाता था. पार्टी के उपाध्यक्ष के तौर पर राहुल गांधी ने इस प्रक्रिया को शुरू किया था लेकिन इस प्रक्रिया के चलते एनएसयूआई और यूथ कांग्रेस संगठन धीरे-धीरे कमजोर होने शुरू हो गए और परिणाम यह है कि पिछले 4 साल में एनएसयूआई लगातार आर यू सहित कई बड़े विश्वविद्यालय के चुनाव हार चुकी है. राजस्थान में यूथ कांग्रेस की सक्रियता भी अब कहीं नजर नहीं आती है. 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का कहना है कि कॉलेज स्तर पर छात्र संगठन एनएसयूआई ने बेहतर प्रदर्शन किया है. गहलोत ने कहा है कि अधिकांश जगह ऐसी रही है जहां पर एबीवीपी तीसरे नंबर पर रही हैृ, लिहाजा एनएसयूआई को खारिज करना ठीक नहीं है. 

वहीं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट का कहना है की परिणामों के बाद विश्लेषण किया जा रहा है. हर चुनाव के अलग मुद्दे होते हैं निकाय चुनाव पर इन परिणामों का कोई ऐसा नहीं होगा. हालांकि पायलट में बड़ी संख्या में जीतकर आई नारी शक्ति पर प्रसन्नता जताई. पायलट ने कहा निकाय चुनाव को लेकर हमारी तैयारी शुरू हो गई है ब्लॉक और जिला स्तर पर मुद्दों के आधार पर ना केवल घोषणा पत्र तैयार किया जाएगा बल्कि पार्टी के नेताओं को अलग-अलग चुनाव की जिम्मेदारी भी दी जाएगी.

लाइव टीवी देखें-:

एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष अभिमन्यु पूनिया ने चुनाव के दौरान एनएसयूआई का परफॉर्मेंस कॉलेज स्तर पर सही माना है. लेकिन उन्होंने संगठन को और मजबूत करने की जरूरत बताई है.

छात्र संगठन चुनाव के परिणाम आने के बाद बीजेपी नेताओं में उत्साह है भाजपा के पूर्व मंत्री और वर्तमान विधायक कालीचरण सराफ ने इन चुनावों के परिणामों को बीजेपी की विचारधारा की जीत बताया है. सराफ ने कहा है कि परिणाम राजस्थान में सरकार के खिलाफ युवा वर्ग में आक्रोश को दिखाते हैं. उन्होंने कहा कि प्रदेश के निकाय और पंचायत चुनाव में भी बीजेपी के पक्ष में जनादेश मिलेगा.