close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव के पहले कांग्रेस ने की दिल्ली में बैठक, राजस्थान के नेता भी रहे मौजूद

 2019 के लोकसभा चुनाव को देखते हुए राजधानी दिल्ली के 15 जीआरजी स्थित वॉर रूम में कांग्रेस कोआर्डिनेशन कमेटी की बैठक गुरुवार को हुई. 

लोकसभा चुनाव के पहले कांग्रेस ने की दिल्ली में बैठक, राजस्थान के नेता भी रहे मौजूद
राजस्थान के कैबिनेट मंत्री हरीश चौधरी ने बताया कि लोकसभा चुनाव के अलावा राहुल गांधी की सभा को लेकर भी इस बैठक में चर्चा हुई. (फाइल फोटो)

मनोहर विश्नोई, नई दिल्ली: इस साल 2019 के लोकसभा चुनाव को देखते हुए राजधानी दिल्ली के 15 जीआरजी स्थित वॉर रूम में कांग्रेस कोआर्डिनेशन कमेटी की बैठक गुरुवार को हुई. सुबह 11:00 बजे शुरु इस बैठक के दौरान से राजस्थान के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे, पीसीसी चीफ सचिन पायलट, राज्य में कैबिनेट मंत्री एवं पंजाब सह-प्रभारी हरिश चौधरी मौजूद थे. इनके अलावा केंद्रीय नेता के सी वेणुगोपाल, एके एंटोनी, कांग्रेस के कोषाध्यक्ष महासचिव अहमद पटेल, आनंद शर्मा, लोकसभा में नेता कांग्रेस मल्लिकार्जुन खड़गे सहित कई सीनियर नेताओं ने बैठक में हिस्सा लिया.

बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में राजस्थान के कैबिनेट मंत्री हरीश चौधरी ने कहा कि लोकसभा चुनाव को लेकर हो रही इस बैठक के दौरान जयपुर में राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के रैली की भी चर्चा हुई. इसके अलावा लोकसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर भी पार्टी के सीनियर नेताओं से बातचीत भी हुई.

बताया जा रहा है कि इस बैठक में प्रमुख मुद्दा महागठबंधन के साथ सीटों के बंटवारे का रहा है. इसके अलावा बैठक में बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना, और केरल के लोकसभा सीटों पर चर्चा की गई है. वहीं राज्यों में वर्तमान परिस्थिति पर भी विमर्श हुआ है. जिसके आधार पर लोकसभा चुनाव की रणनीति बनाई जाएगी.

सूत्रों के अनुसार आज(10 जनवरी) को हुई कांग्रेस कॉर्डिनेशन कमेटी की बैठक में लोकसभा में सहयोगी दलों के साथ सीटों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस अपना अंतिम निर्णय ले सकती है. 

आपको बता दें कि, 2018 के विधानसभा चुनाव में  जीत हासिल करने वाली कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव में चुनावी जीत पक्की करने के लिए पुख्ता रणनीति बनाना शुरु कर दिया है. इस साल चुनाव से पहले कांग्रेस बीजेपी के खिलाफ आक्रामक रणनीति अपनाए हुए है. कांग्रेस का प्रयास है कि महागठबंधन के सहयोग से लोकसभा चुनाव लड़ा जाए. ताकि बीजेपी के खिलाफ होने वाले वोटों के बंटवारें को रोका जा सके. 

वैसे 9 दिसंबर को राजस्थान विधानसभा चुनाव जीतने के बाद राहुल गांधी की किसान रैली का आयोजन राजधानी जयपुर में किया गया था. जिसके माध्यम से लोकसभा चुनाव के लिए आम लोगों को  संदेश देने का प्रयास कांग्रेस के रणनीतिकार कर रहे थे.