अप्रैल के पहले ही दिन बुध का राशि परिवर्तन, जानिए आपकी राशि पर इसका प्रभाव

अप्रैल के पहले दिन बुध ग्रह राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं. बुध अभी कुंभ राशि में हैं और 1 अप्रैल को बुध मीन राशि में आ जाएंगे. 

अप्रैल के पहले ही दिन बुध का राशि परिवर्तन, जानिए आपकी राशि पर इसका प्रभाव
प्रतीकात्मक तस्वीर

Jaipur : अप्रैल के पहले दिन बुध ग्रह राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं. बुध अभी कुंभ राशि में हैं और 1 अप्रैल को बुध मीन राशि में आ जाएंगे. इस राशि में ये 16 अप्रैल की रात्रि 8 बजकर 54 मिनट तक गोचर करेंगे, उसके बाद मंगल की राशि मेष राशि में प्रवेश कर जायेंगे. मीन राशि में ये नीच राशिगत संज्ञक माने गए हैं. ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि बुध के राशि परिवर्तन से सभी जातकों के करियर मान-सम्मान भौतिक सुख-सुविधा और रुपए-पैसे की स्थिति में बदलाव हो सकता है. बुध को इन सभी चीजों का कारक ग्रह माना जाता है. सभी राशियों पर प्रभाव डालने वाला बुध कुछ राशियों के लिए अच्छी खबर लेकर आएगा तो कुछ राशियों के जीवन में उतार-चढ़ाव की स्थिति देखी जाएगी. 

यह भी पढ़ें- दिल्ली-मुंबई तक है Udaipur के इस 'गुलाल' की Demand, जानिए आखिर क्या है इसमें खास

ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि बुध चंचल भ्रमणशील और मिलनसार ग्रह के रूप में जाने जाते हैं. स्वास्थ्य की दृष्टि से बुध जातक को चर्म रोग, पेट संबंधी विकार तथा सर्वाइकल के दर्द से संबंधित समस्याओं से अधिक परेशान कर सकते हैं. इनके शुभ प्रभाव के परिणामस्वरुप जातक विद्वान, दार्शनिक, लेखक, कवि, शोधपरक कार्य, शल्य चिकित्सा, गणितज्ञ, ज्योतिष विज्ञान, शिक्षण कार्य, बैंकिंग के क्षेत्र, तथा कानून के क्षेत्र में अच्छी ख्याति प्राप्त करता है. बुध ग्रह मिथुन और कन्या राशि का स्वामी है. बुध सूर्य का निकटतम ग्रह है. बुध ग्रह को बुद्धि का प्रदाता कहा गया है. बुध ग्रह के लक्षण की बात करें तो यह व्यक्ति में बुद्धि, विवेक, हाज़िर जवाबी और हास्य–विनोद का प्रतिनिधित्व करता है. यह एक शुभ ग्रह है लेकिन कुछ स्थितियों में बुध अशुभ ग्रह में बदल सकता है. बुध कम्युनिकेशन का ग्रह है. 

ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि बुध ग्रह के अधिदेवता भगवान विष्णु हैं. बुध व्यापार के देवता तथा व्यापारियों के रक्षक हैं. बुध चन्द्र और तारा के पुत्र है. बुध सौरमंडल के  ग्रहों में सबसे छोटा और सूर्य से निकटतम है. बुध के हाथों में तलवार, ढाल, गदा तथा वरमुद्रा धारण की हुई है. यह व्यापार, वाणिज्य, कॉमर्स, व्यापार,  खाते,  बैंकिंग,  मोबाइल,  नेटवर्किंग, कंप्यूटर आदि से संबंधित क्षेत्रों का प्रतीक है. एक शक्तिशाली बुध आपके जीवन के उपर्युक्त क्षेत्रों में सफलता का प्रतीक है. ताकतवर बुध वाले लोग तेज दिमाग के होने की वजह से उनके सोचने की शक्ति अच्छी होती है. लेकिन, इनकी एक समस्या यह होती है कि ये चिंता और अनिश्चितता से प्रभावित होते हैं. 

क्या होगा असर
ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि बुध के राशि परिवर्तन से लोगों में रचनात्मकता बढ़ेगी. शेयर मार्केट बढ़ने की संभावना है. कीमती धातुओं के दाम कम होंगे. बाजार में खरीदारी बढ़ सकती है. खाने-पीनी की चीजें महंगी हो सकती है. बिजनेस करने वाले लोगों के लिए समय अच्छा रहेगा. लेन-देन और निवेश में कई लोगों को फायदा मिल सकता है. कई नौकरीपेशा लोग जॉब बदलने का मन बना सकते हैं. षड़यंत्र का शिकार बन सकते हैं. नौकरी या रोजमर्रा से जुड़ी नई योजनाएं बनेंगी. बुध के प्रभाव से कुछ लोग अपने काम को लेकर झूठ बोल सकते हैं. इसका नुकसान भी आने वाले दिनों में देखने को मिलेगा.

बुध है नपुंसक ग्रह 
बुध पुरुष ग्रह होने के बावजूद नपुंसक ग्रह कहलाता है. अर्थात यह जिस ग्रह के साथ बैठ जाए उसकी तरह व्यवहार करने लगता है. वक्री बुध यदि किसी खराब ग्रह के साथ बैठ गया और उसके खराब फल में वृद्धि हो जाती है.

बुध का वैदिक मंत्र
ॐ उद्बुध्यस्वाग्ने प्रति जागृहि त्वमिष्टापूर्ते सं सृजेथामयं च.
अस्मिन्त्सधस्थे अध्युत्तरस्मिन् विश्वेदेवा यजमानश्च सीदत..
बुध का तांत्रिक मंत्र

ॐ बुं बुधाय नमः
बुध का बीज मंत्र
ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः

बुध के उपाय 
ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि बुध से पीड़ित व्यक्ति को मां दुर्गा की आराधना करनी चाहिए. बुधवार के दिन गाय को हरा चारा खिलाना चाहिए और साबूत हरे मूंग का दान करना चाहिए. बुधवार के दिन गणपति को सिंदुर चढ़ाएं. बुधवार के दिन गणेश जी को दूर्वा चढ़ाएं. दूर्वा की 11 या 21 गांठ चढ़ाने से फल जल्दी मिलता है. पालक का दान करे. बुधवार को कन्या पूजा करके हरी वस्तुओं का दान करें.

बुध के इस गोचर का सभी 12 राशियों पर शुभ-अशुभ प्रभाव

मेष राशि
राशि से बारहवें भाव में गोचर करते हुए बुध का प्रभाव काफी मिलाजुला रहेगा. भागदौड़ की अधिकता रहेगी. कोर्ट कचहरी के मामलों में भी तनाव रहेगा. धर्म एवं आध्यात्म के प्रति रुचि बढ़ेगी. मांगलिक कार्यों का सुअवसर आएगा.

वृषभ राशि
राशि से लाभस्थान में गोचर करते हुए बुध का प्रभाव अच्छा ही रहेगा. आय के साधनों में बढ़ोतरी होगी. काफी दिनों का दिया गया धन भी वापस मिलने की उम्मीद. व्यापारियों के लिए तो समय अपेक्षाकृत और अच्छा रहेगा. मकान वाहन के क्रय का योग. 

मिथुन राशि
राशि से दशम भाव में बुध अप्रत्याशित रूप से कार्यक्षेत्र का विस्तार करेंगे. रोजगार की दिशा में किए गए प्रयास सार्थक रहेंगे. माता-पिता के स्वास्थ्य के प्रति चिंतनशील रहें. समाज के संभ्रांत लोगों से मेलजोल बढ़ेगा. सामाजिक जिम्मेवारी तथा पद प्रतिष्ठा में भी वृद्धि होगी. 

कर्क राशि
राशि से भाग्य भाव में गोचर करते हुए बुध का प्रभाव काफी मिला-जुला रहेगा. सफलता की संभावना सर्वाधिक रहेगी. विदेशी मित्रों तथा संबंधियों से लाभ की उम्मीद. वीजा और नागरिकता के लिए भी आवेदन करना चाह रहे हों अवसर अच्छा है.

सिंह राशि
राशि से अष्टम भाव में गोचर करते हुए बुध स्वास्थ्य की दृष्टि से परेशान कर सकते हैं चर्म रोग, पेट संबंधी विकार, दवाओं के रिएक्शन, तथा एलर्जी से हमेशा सावधान रहना होगा. किसी कारण से पारिवारिक कलह एवं मानसिक अशांति का भी सामना करना पड़ सकता है. जमीन जायदाद से जुड़े मामले आपस में सुलझा लेना समझदारी होगी. 

कन्या राशि
राशि से सप्तम भाव में गोचर करते हुए बुध अच्छा फल ही प्रदान करेंगे. परिवार में मांगलिक कार्यों का सुअवसर आएगा. विवाह से संबंधित वार्ता सफल रहेगी. ससुराल पक्ष से रिश्ते मजबूत रहेंगे. दैनिक व्यापारियों के लिए समय और अनुकूल रहेगा. 

तुला राशि
राशि से छठे भाव में गोचर करते हुए बुध स्वास्थ्य पर तो विपरीत प्रभाव डालेंगे ही गुप्त शत्रुओं की भी अधिकता रहेगी. आपके अपने ही लोग नीचा दिखाने की कोशिश करेंगे. कोर्ट कचहरी के मामले भी आपस में भी सुलझा लें तो बेहतर रहेगा. 

वृश्चिक राशि
राशि से पंचम भाव में गोचर करते हुए बुध का प्रभाव अच्छा ही रहेगा. स्मरण शक्ति बढ़ेगी. मान-सम्मान की वृद्धि होगी. सामाजिक पद प्रतिष्ठा भी बढ़ेगी. प्रेम संबंधी मामलों में प्रगाढ़ता आएगी. 

धनु राशि
राशि से चतुर्थ भाव में गोचर करते हुए बुध का प्रभाव सामान्य ही रहेगा. स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा. किसी न किसी कारण से पारिवारिक कलह एवं मानसिक अशांति का सामना भी करना पड़ेगा. मित्रों अथवा संबंधियों के द्वारा अप्रिय समाचार प्राप्ति के योग. 

मकर राशि
राशि से तृतीय भाव में गोचर करते हुए बुध कई तरह के अप्रत्याशित उतार-चढ़ाव लाएंगे. अपनी जिद एवं आवेश को नियंत्रण में रखकर कार्य करेंगे तो अधिक सफल रहेंगे. परिवार के वरिष्ठ सदस्यों तथा छोटे भाइयों से मतभेद न पैदा होने दें. धर्म एवं अध्यात्म के प्रति रुचि बढ़ेगी. 

कुंभ राशि
राशि से धन भाव में गोचर करते हुए बुध अच्छा फल ही प्रदान करेंगे. अपनी वाणी कुशलता के बलपर कठिन से कठिन हालात को भी आसानी से नियंत्रित कर लेंगे. महिलाओं के लिए इनका प्रभाव अपेक्षाकृत और बेहतर रहेगा. आर्थिक पक्ष मजबूत होगा. 

मीन राशि
आपकी राशि में गोचर करते हुए बुध नीचराशिगत संज्ञक माने गए हैं. स्वास्थ्य के प्रति हमेशा चिंतनशील रहें. खान-पान का ध्यान रखें. अन्यथा पेट संबंधी विकार परेशान कर सकता है. विवाह से संबंधित वार्ता सफल रहेगी. ससुराल पक्ष से सहयोग मिलेगा.

यह भी पढ़ें- Holi पर ठाठ-बाट में दिखे श्री कल्याण प्रभु, छप्पन भोगों के साथ बाबा ने मनाया फागोत्सव