कोटपुतली में मनरेगा कर्मियों का हंगामा, रुपये मांगने पर काम बंद करने का लगाया आरोप

श्रमिकों का आरोप था कि उनकी पंचायत में मनरेगा का काम बंद कर दिया गया है.

कोटपुतली में मनरेगा कर्मियों का हंगामा, रुपये मांगने पर काम बंद करने का लगाया आरोप
प्रतीकात्मक तस्वीर.

अमित यादव, जयपुर: कोटपुतली में पंचायत समिति में गुरुवार को भयंकर हंगामा हो गया. यहां पवाना अहीर गांव से दर्जनों की संख्या में मनरेगा श्रमिक पहुंची और हंगामा करने लगे. 

श्रमिकों का आरोप था कि उनकी पंचायत में मनरेगा का काम बंद कर दिया गया है और मैट को भी बिना किसी वजह के हटा दिया गया है. श्रमिकों ने मैट को वापस लगाने, काम फिर से शुरू कराने और आरोपी रोजगार सहायक को पड़ से हटाने की मांग पर BDO कार्यालय के बाहर हंगामा किया. हालांकि अंदर जाने को लेकर पंचायत समिति के कर्मचारियों से महिला श्रमिकों की काफी देर तक तीखी नोंक-झोंक भी होती रही.

यह भी पढ़ें- विश्वास मत पर CM गहलोत का विपक्ष को करारा जवाब, कहा- कांग्रेस एकता से BJP हुई आहत

 

उधर BDO शशि बाला ने काम वापस शुरू करने का आश्वासन तो दिया लेकिन मैट को वापस लगाने से उन्होंने साफ इनकार कर दिया. BDO का कहना था कि वर्तमान मैट ने अपनी पहचान की उन श्रमिकों की भी हाजिरी लगा दी थी, जो काम पर मौजूद ही नहीं थी. इज़के अलावा BDO ने श्रमिकों की मांग पर रुपये मांगने के आरोपी रोजगार सहायक के खिलाफ जांच का भी भरोसा दिया.

कोरोना संक्रमण काल में राज्य सरकार ने प्रवासियों समेत सभी को रोजगार देने के लिए मनरेगा पर खास फ़ोकस किया है. ऐसे में काम बंद कर देना सही नहीं है लेकिन श्रमिकों के आये बिना ही उनकी हाजिरी लगाकर भुगतान उठाना भी गैर कानूनी और अनैतिक है.