जयपुर में न्यूनतम तापमान 1 डिग्री, टूटा 55 सालों का रिकॉर्ड

साल 2008 से 2018 के बीच दिसंबर में तापमान 3-8 डिग्री सेल्सियस ही दर्ज किया गया था. उन्होंने कहा कि हालांकि सोमवार को तापमान एक डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

जयपुर में न्यूनतम तापमान 1 डिग्री, टूटा 55 सालों का रिकॉर्ड
तापमान की इस गिरावट ने 55 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है.

जयपुर: राजस्थान की राजधानी जयपुर में सोमवार को न्यूनतम तापमान एक डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. वहीं, रविवार को यह 1.4 था डिग्री था. तापमान की इस गिरावट ने 55 सालों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है. यह जानकारी भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के निदेशक शिव गणेश ने दी. उन्होंने कहा कि राजस्थान की राजधानी में साल 1905 में 31 जनवरी और एक फरवरी को न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 02.2 डिग्री रिकॉर्ड किया गया था, जो अभी तक का रिकॉर्ड है.

बता दें कि, साल 2008 से 2018 के बीच दिसंबर में तापमान 3-8 डिग्री सेल्सियस ही दर्ज किया गया था. उन्होंने कहा कि हालांकि सोमवार को तापमान एक डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

मौसम विभाग के अधिकारियों के अनुसार, सोमवार को पिलानी का तापमान 1.1 डिग्री सेल्सियस, सीकर का तापमान शून्य से नीचे 0.5 डिग्री, माउंट आबू का तापमान एक डिग्री, चुरू का तापमान 1.3 डिग्री, गंगाघाट का तापमान 1.5 डिग्री, बूंदी का 2.6 डिग्री और वनस्थली का तापमान 2.2 डिग्री दर्ज किया गया. अधिकारियों ने आगे कहा कि सोमवार को अजमेर, अलवर, कोटा, सवाई माधोपुर, चित्तौड़गढ़, आबू रोड, जैसलमेर, बीकानेर और फलौदी में न्यूनतम तापमान पांच डिग्री रहा.

वहीं, सर्दी के सितम से फसलों के नुकसान होने की संभावना बढ़ गई है. बता दें कि, पूरा उत्तर भारत कई दिनों से कोहरे की चादर में लिपटा हुआ है और कुछ जगहों पर न्यूनतम तापमान शून्य डिग्री सेल्सियस से नीचे चला गया है. तापमान में आई गिरावट से पाला पड़ने की आशंका बनी हुई है, जिससे रबी फसलों को नुकसान हो सकता है.

हालांकि, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) के तहत आने वाले राजस्थान के भरतपुर स्थित सरसों अनुसंधान निदेशालय के कार्यकारी निदेशक पी. के. राय ने  बताया कि सरसों की फसल पर फिलहाल कोहरे से कोई ज्यादा असर नहीं हुआ है, लेकिन भरतपुर, अलवर डिवीजन के कुछ इलाकों में सरसों पर सफेद रतुआ (व्हाइट रस्ट) के प्रकोप की शिकायत मिल रही है.